अर्थ जगत की 5 बड़ी खबरें: गार्मेंट इंडस्ट्री को नए ऑर्डर का इंतजार, 80 फीसदी घटी बिक्री और शेयर बाजार में गिरावट जारी

घरेलू शेयर बाजार में गुरुवार को भारी उतार-चढ़ाव रहा। सत्र के आखिर में सेंसेक्स 27 अंक फिसलकर 34842 पर बंद हुआ जबकि निफ्टी 10300 के नीचे रहा। लॉकडाउन खुलने के बाद भी कपड़े की मांग सुस्त रहने से देश के कपड़ा उद्योग में जल्द रिवकरी के आसार नहीं दिख रहे हैं।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

सेंसेक्स 27 अंक फिसलकर 34,842 पर बंद हुआ, निफ्टी 10,300 के नीचे

घरेलू शेयर बाजार में गुरुवार को भारी उतार-चढ़ाव रहा। सत्र के आखिर में सेंसेक्स 27 अंक फिसलकर 34842 पर बंद हुआ जबकि निफ्टी 10300 के नीचे रहा। सेंसेक्स पिछले सत्र से 26.88 अंकों की गिरावट के साथ 34,842.10 पर बंद हुआ और निफ्टी 16.40 अंकों की गिरावट के साथ 10,288.90 पर ठहरा। बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स पिछले सत्र से 343.59 अंक फिसलकर 34525.39 पर खुला और 34499.78 तक लुढ़का, हालांकि बाद में रिकवरी आने पर सेंसेक्स बंद होने से पहले 35081.61 तक चढ़ा। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित प्रमुख संवेदी सूचकांक निफ्टी भी पिछले सत्र से 69.75 अंकों की गिरावट के साथ 10235.55 पर खुला और 10194.50 तक फिसला जबकि दिनभर के कारोबार के दौरान निफ्टी का ऊपरी स्तर 10361.80 रहा। बीएसई मिडकैप सूचकांक हालांकि पिछले सत्र से 82 अंकों यानी 0.62 फीसदी की तेजी के साथ 13,222.43 पर बंद हुआ जबकि स्मॉलकैप सूचकांक पिछले सत्र से 95.37 अंकों यानी 0.76 फीसदी की बढ़त के साथ 12,606014 पर ठहरा।

गार्मेंट इंडस्ट्री को नए ऑर्डर का इंतजार, 80 फीसदी घटी बिक्री

लॉकडाउन खुलने के बाद भी कपड़े की मांग सुस्त रहने से देश के कपड़ा उद्योग में जल्द रिवकरी के आसार नहीं दिख रहे हैं। पहले मजदूरों के पलायन से गार्मेंट व अपेरल कारोबारियों की चिंता बढ़ गई थी, लेकिन अब नया ऑर्डर नहीं मिलने से उनकी परेशानी और बढ़ गई है।उत्तर भारत में गार्मेंट और होजरी की प्रमुख औद्योगिक नगरी लुधियाना (पंजाब) के कपड़ा कारोबारियों को इस समय मजदूरों और कारीगरों से ज्यादा नए ऑर्डर का इंतजार है। उनका कहना है कि ऑर्डर मिलेंगे तो मजदूर भी मिल जाएंगे और कारीगर भी आ जाएंगे।दिल्ली के गांधीनगर की स्थिति इससे भी खराब है, जो एशिया के सबसे बड़े रेडीमेड गार्मेंट बाजार के रूप में मशहूर है। कारोबारी बताते हैं कि न तो नया ऑर्डर मिल रहा है और न ही पहले की उधारी ही वसूल हो रही है, जिससे उनकी माली हालत बहुत खराब हो गई है।

आईबीएम का ऐलान : नौकरी चाहने वालों के लिए मुफ्त डिजिटल लर्निग प्लेटफॉर्म

क दिग्गज आईबीएम ने गुरुवार को स्किल बिल्ड इनिसिऐटिव के माध्यम से भारत में नौकरी करने वालों की मदद करने और भारत में व्यवसाय के मालिकों को नए संसाधन मुहैया कराने के लिए एक मुफ्त डिजिटल लर्निग प्लेटफॉर्म की घोषणा की। 'स्किल्स बिल्ड रिइग्नाइट' नाम का यह प्लेटफॉर्म मुफ्त ऑनलाइन कोर्सवर्क और मेंटरिंग सपोर्ट देगा, जिसे लोगों को उनके करियर और व्यवसायों को सुगम बनाने में मदद करने के लिए डिजाइन किया गया है।पिछले साल नवंबर में, आईबीएम ने कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय (एमएसडीई) के तत्वावधान में प्रशिक्षण महानिदेशालय के सहयोग से स्किल्स बिल्ड कार्यक्रम शुरू किया था।ई-लर्निग के माध्यम से स्किल्स बिल्ड कार्यक्रम के तहत 14,135 शिक्षार्थियों ने लाभ उठाया है, जिन्होंने 40,000 पाठ्यक्रम और 77,000 घंटे ई-लर्निग पूरी कर ली है।

दिल्ली में डीजल 80.02 रुपये लीटर, पेट्रोल 79.92 रुपये लीटर का भाव

देशभर में एक दिन के विराम के बाद गुरुवार को फिर पेट्रोल का भाव बढ़ गया, जबकि डीजल के भाव में लगातार 19वें दिन बढ़ोतरी का सिलसिला जारी रहा। देश की राजधानी दिल्ली में डीजल का भाव पहली बार 80 रुपये लीटर के पार चला गया है और डीजल का दाम भी 80 रुपये प्रति लीटर के करीब है। इंडियन ऑयल की वेबसाइट के अनुसार, दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में पेट्रोल का भाव बढ़कर क्रमश: 79.92 रुपये, 81.61 रुपये, 86.70 रुपये और 83.18 रुपये प्रति लीटर हो गया है। डीजल का दाम भी चारों महानगरों में बढ़कर क्रमश: 80.02 रुपये, 75.18 रुपये, 78.34 रुपये और 77.29 रुपये प्रति लीटर हो गया है।तेल विपणन कंपनियों ने गुरुवार को दिल्ली, कोलकाता और मुंबई में पेट्रोल के दाम में 16 पैसे जबकि चेन्नई में 14 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी की। वहीं, डीजल की कीमत दिल्ली में 14 पैसे जबकि कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में 12 पैसे प्रति लीटर बढ़ा दी गई है।एक दिन पहले बुधवार को तेल कंपनियों ने पेट्रोल के दाम में कोई बदलाव नहीं किया था।

फेसबुक के नए ऐप से सांसारिक घटनाओं की होगी भविष्यवाणी

फेसबुक ने जल्द ही फोरकास्ट को लॉन्च करने की घोषणा की है। यह एक आईओएस ऐप है, जो कोविड-19 महामारी सहित संसार की तमाम घटनाओं की भविष्यवाणी से संबंधित एक समुदाय का निर्माण करेगी। समुदाय में जो भी सदस्य शामिल होंगे, वे भविष्य के बारे में अपने सवाल पूछ सकते हैं, इनके बारे में भविष्यवाणी कर सकते हैं, इन पर चर्चा कर सकते हैं और अपने ज्ञान का विस्तार कर सकते हैं। यह ऐप फिलहाल एक इनवाइट-ओनली बीटा वर्जन में है।बुधवार को देर रात फेसबुक ने अपने एक बयान में कहा, "हम मानते हैं कि पूवार्नुमानों के इर्द-गिर्द बनाया गया यह समुदाय न केवल लोगों के ज्ञान को बढ़ाने का एक अच्छा तरीका है बल्कि यह तमाम विषयों में बेहतर ढंग से चर्चा करने को प्रोत्साहित करने में भी उनकी मदद कर सकता है।"फेसबुक की ऐप-केंद्रित न्यू प्रोडक्ट एक्सपेरिमेंटेशन (एनपीई) टीम की ओर से पहले अमेरिका और कनाडा के लोगों को पूर्वानुमान करने और बातचीत में भाग लेने की अनुमति दी जाएगी।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

लोकप्रिय