उत्तर प्रदेश में टैटू के बाद अब आया बुलडोजर कलर, होली पर चढ़ा योगी की जीत का खुमार

याहियागंज बाजार के थोक विक्रेता अशरफ अली ने बताया कि बुलडोजर रंग ने मुख्य रूप से केसरिया, पीले और अब काले रंग में भी रंग बाजार में प्रवेश कर लिया है। महामारी में दो साल की खामोशी के बाद लोग इस बार बड़े पैमाने पर होली मनाने के मूड में हैं।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश में बुलडोजर का खुमार लोगों के सिर चढ़ कर बोल रहा है। यूपी विधानसभा चुनाव में योगी अदित्यनाथ की शानदार जीत ने यूपी सरकार के साथ-साथ बीजेपी समर्थकों के हौसले को बढ़ा दिया है। हाल ही में लोगों द्वारा बुलडोजर के टैटू बनवाने के बाद अब इस होली पर बुलडोजर कलर की चर्चाएं खूब सुर्खियां बटौर रही हैं। बुलडोजर सीएम योगी आदित्यनाथ के चुनाव अभियान की आधारशिला था, जिसे कानून-व्यवस्था की स्थिति का पर्याय बनाने की जमकर कोशिश हुई। यही वजह है लोग अब मशीन को हर चीज से जोड़ना चाहते हैं।

याहियागंज बाजार के थोक विक्रेता अशरफ अली ने कहा, "बुलडोजर रंग ने मुख्य रूप से केसरिया, पीले और अब काले रंग में भी रंग बाजार में प्रवेश कर लिया है। महामारी के दौरान दो साल की खामोशी के बाद, लोग अब बड़े पैमाने पर होली मनाने के मूड में हैं और गुलाल की बिक्री में लगभग 40 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।"


संयोगवश, बुलडोजर रंग मुख्य रूप से रासायनिक आधारित रंग होते हैं जो होली पर दो से तीन दिनों तक अपना प्रभाव छोड़ते हैं। इन्हें गुलाल के रूप में और पानी के रंगों के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकता है। उन्होंने कहा, "हर्बल रंग ज्यादातर म्यूट रंगों में आते हैं जबकि रासायनिक रंग मजबूत और अधिक जीवंत होते हैं। लोग, इस साल, मजबूत रंगों का चयन कर रहे हैं और साइड इफेक्ट्स के बारे में चिंताओं को दूर कर दिया गया है।"

हालांकि, हर्बल गुलाल, पर्यावरण के अनुकूल प्राकृतिक डाई, जो ज्यादातर पीले, गुलाबी, चंदन और हरे रंग में चमेली, गुलाब, चंदन और खुस सुगंध में उपलब्ध है, उसकी मांग भी बढ़ गई है।
आसपास के जिलों से भी मांग है क्योंकि नवनिर्वाचित विधायक अपने मतदाताओं के साथ बड़े पैमाने पर जश्न मना रहे हैं।


थोक विक्रेताओं का कहना है कि खुदरा विक्रेताओं से अग्रिम बुकिंग की मात्रा को देखते हुए इस साल कारोबार पिछले वर्षों की बिक्री को पार कर सकता है। उनका कहना है कि मांग में तेज वृद्धि की आशंका के चलते दुकानें इन्वेंट्री होने के बावजूद नए ऑर्डर दे रही हैं। एक रिटेलर रोहित ने कहा, "इस त्योहारी सीजन में कंज्यूमर सेंटिमेंट बहुत ज्यादा है और इसका असर इस होली पर बिक्री पर दिखेगा। हर दुकान थोक में ऑर्डर दे रही है।"

इस बीच, सीमित उत्पादन के कारण इस सीजन में रंगों की कीमतों में उछाल आया है, जो ब्रांडों के आधार पर 10-15 प्रतिशत से अधिक बढ़ गया है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia