BJP और महंगाई का चोली दामन का साथ, इस पार्टी ने सिर्फ समाज में जहर घोलने का काम किया: भूपेश बघेल

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा पर निशाना साधा, कहा, प्रधानमंत्री मोदी लोकसभा में ये तक नहीं बता पाए कि किसान आंदोलन के दौरान कितने जवान शहीद हो गए।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री मोदी और बीजेपी पर निशाना साधा, कहा, प्रधानमंत्री मोदी लोकसभा में ये तक नहीं बता पाए कि किसान आंदोलन के दौरान कितने जवान शहीद हो गए। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जालंधर में भाजपा की नीतियों पर हमला बोलते हुए कहा कि भाजपा फूट डालो, शासन करो की नीति पर काम करती है, जिसने समाज में जहर घोलने का काम किया है। भूपेश बघेल पंजाब विधानसभा चुनाव की तैयारियों को लेकर बुधवार को जालंधर पहुंचे, जहां मीडिया से बातचीत के दौरान उन्होंने भाजपा के प्रथम और दूसरे चरण के चुनाव में पिछड़ने का दावा भी किया।

भुपेश बघेल ने नोटबंदी, जीएसटी और कृषि कानूनों को लेकर भाजपा पर सवाल उठाए। उन्होने कहा कि भाजपा की इन नीतियों से देश की अर्थव्यवस्था चौपट हो गयी है। भाजपा 70 साल पर और पूर्व प्रधानमंत्रियों से सवाल करती है, जो अब यहां नहीं है। तो अब भाजपा से सवाल है कि नोटबंदी से कितना धन वापस आया, जीएसटी से किसको फायदा हुआ। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी लोकसभा में ये तक नहीं बता पाए कि किसान आंदोलन के दौरान कितने जवान शहीद हो गए।


उन्होने बढ़ती महंगाई और बेरोजगारी पर बीजेपी को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि जनता समझ चुकी है कि भाजपा और महंगाई का चोली दामन का साथ है। महंगाई पर नियंत्रण लगाना है तो भाजपा को हराना होगा। उन्होंने कहा कि भाजपा का सिद्धांत फूट डालो शासन करो का रहा है। इनकी मास्टरी सांप्रदायिकता और धर्मांतरण में रही है। किसी भी बात को सांप्रदायिक रंग दे देते हैं। पंजाब दौरे पर गए प्रधानमंत्री मोदी द्वारा लगाए गए आरोप महज उनकी गंदी राजनीति को दर्शाता है।

बघेल ने कहा कि राहुल गांधी ने न्याय की बात कही है। देश के धन का सही वितरण हो। छत्तीसगढ़ में हमने इसकी शुरूआत की है। उन्होने कहा कि पंजाब के शांति के वातावरण में भाजपा और दिल्ली के मुख्यमंत्री विद्वेष फैलाने का काम कर रहे हैं। कांग्रेस इसे बर्दाश्त नहीं करेगी और इसे होने भी नहीं देगी।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia