गुजरात चुनावः पहले चरण की 89 सीट पर मतदान कल, करीब ढाई करोड़ मतदाता 788 उम्मीदवारों के भाग्य का करेंगे फैसला

इसी चरण में मोरबी में भी चुनाव है, जहां हाल में हुए पुल हादसे में 135 लोगों की मौत हुई थी। यहां बीजेपी ने अपने मौजूदा विधायक और मंत्री ब्रजेश मेरजा का टिकट काटकर पूर्व विधायक कांतिलाल अमृतिया को उतारा है। ऐसे में इस सीट पर भी सबकी निगाहें लगी हैं।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

आसिफ एस खान

गुजरात चुनाव के पहले चरण में कल एक दिसंबर को राज्य की 89 विधानसभा सीटों पर मतदान होगा। इनमें कच्छ-सौराष्ट्र की 54 और दक्षिण गुजरात की 35 सीट शामिल हैं। करीब दो करोड 40 लाख मतदाता विभिन्न दलों के 788 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे। मतदान सुबह आठ बजे शुरू होगा और शाम पांच बजे समाप्त हो जाएगा। मतदान की सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। चुनावकर्मी चुनाव सामग्री लेकर मतदान केंद्रों पर पहुंच गए हैं। शांतिपूर्ण मतदान सुनिश्चित कराने के लिए कड़े सुरक्षा प्रबंध किए गए हैं।

चुनाव के पहले चरण में 39 राजनीतिक दलों के 788 उम्मीधदवार मैदान में हैं। इनमें 70 महिलाएं भी शामिल हैं। इस चरण में कुल दो करोड़ 39 लाख 76 हजार 670 मतदाता अपने मताधिकार का उपयोग करेंगे। इनमें 12433362 पुरुष, जबकि 11542811 महिलाएं और 497 ट्रांसजेंडर मतदाता हैं। इस चुनाव में पहली बार वोट करने वाले 18 से 19 वर्ष के युवा मतदाताओं की संख्यार 574560 है। वहीं 99 वर्ष से अधिक की आयु वाले 4945 मतदाता हैं।

शांतिपूर्ण और निष्पनक्ष मतदान की तैयारी

चुनाव आयोग ने शांतिपूर्ण और निष्पनक्ष मतदान सुनिश्चित करने के लिए 25,430 मतदान केन्द्रह बनाए हैं। इनमें 9014 शहरी क्षेत्र में जबकि 16416 केन्द्रा ग्रामीण इलाकों में बनाए गए हैं। चुनाव आयोग द्वारा इस बार 89 मॉडल मतदान केन्द्रि भी बनाए गए हैं। इसके अलावा दिव्यांएगों द्वारा संचालित 89 मतदान केन्द्र1, 611 सखी मतदान केन्द्र और 18 मतदान केन्द्रि युवाओं द्वारा संचालित किए जाएंगे। सभी मतदान केंद्रों पर सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध होने का दावा किया गया है।

दक्षिण गुजरात और सौराष्ट्र-कच्छ क्षेत्र में मतदान

कल दक्षिण गुजरात और सौराष्ट्र-कच्छ क्षेत्र में आने वाले 19 जिलों में मतदान होगा। जिन जिलों में मतदान होना है, उनमें कच्छ, सुरेंद्रनगर, मोरबी, राजकोट, जामनगर, देवभूमि द्वारका, पोरबंदर, जूनागढ़, गिर सोमनाथ, अमरेली, भावनगर, बोटाद, नर्मदा, भरूच, सूरत, तापी, डांग्स, नवसारी, और वलसाड जिले शामिल हैं। इनमें मोरबी जिले की सबसे ज्यादा चर्चा है क्योंकि हाल ही में वहां हुए भी पुल हादसे में 138 लोगों की मौत हुई थी।


10 बेहद अहम सीट, रहेंगी सबकी निगाहें

वहीं, इस चरण की अहम सीटों की बात करें तो इस चरण ऐसी 10 सीटें भी शामिल हैं, जिनकी चर्चा सबसे ज्यादा है और जिन पर पूरे राज्य और राजनीतिक पंडितों की निगाह टिकी हुई है। इनमें भावनगर जिले की पश्चिम सीट भी है, जहां से बीजेपी ने मौजूदा शिक्षा मंत्री जीतू वाघाणी को मैदान में उतारा है। जीतू ने 2012 और 2017 में भी यहां से चुनाव जीता था। कांग्रेस ने यहां से किशोर सिंह गोहिल को उतारा है, तो आम आदमी पार्टी ने सामाजिक कार्यकर्ता राजू सोलंकी पर भरोसा जताया है। इससे इस बार यहां लड़ाई त्रिकोणीय हो गई है।

पहले चरण की ह़ॉट सीट में दूसरी सीट कतारगाम है, जहां से आम आदमी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष गोपाल इटालिया चुनाव लड़ रहे हैं। इस सीट पर पाटीदारों की अच्छी संख्या है। यहां उनका मुकाबला बीजेपी के वीनू मोरडिया और कांग्रेस के कल्पेश वारिया से है। इसी तरह पोरबंदर की कुटियाना सीट भी चर्चा में है, जहां से 2012 और 2017 में जीतने वाले कांधल जाडेजा एक बार फिर मैदान में हैं। पिछली बार कांधल ने एनसीपी से जीत हासिल की थी, लेकिन इस बार वह सपा के टिकट पर लड़ रहे हैं। गुजरात की लेडी डॉन के नाम से चर्चित संतोकबेन जाडेजा के बेटे कांधल का इस इलाके में अच्छा प्रभाव है। बीजेपी ने यहां से ढेलीबेन आढेदरा को मैदान में उतारा है।

इस चरण में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जन्मस्थली पोरबंदर जिले की सीट भी काफी चर्चा में है। 2017 में बीजेपी के बाबूभाई बोखरिया ने इस सीट से कांग्रेस के दिग्गज नेता अर्जुन मोढवाडिया को हराया था। इस बार फिर से दोनों आमने-सामने हैं। पिछला मुकाबला काफी करीबी था औप बाबूभाई सिर्फ 1,855 वोटों से जीते थे। इसलिए इस बार मुकाबला करीबी माना जा रहा है।

इसी तरह वराछा रोड भी चर्चा में है जो पाटीदारों का गढ़ है। बीजेपी ने यहां से पूर्व मंत्री और मौजूदा विधायक किशोर कनाणी को उतारा है। जबकि आप ने पाटीदार आंदोलन के प्रमुख चेहरा अल्पेश कथीरिया को टिकट दिया है। बीते अक्तूबर में आप से जुड़े अल्पेश पाटीदार आंदोलन में हार्दिक के बाद नंबर दो थे। कांग्रेस ने यहां से प्रफुल्लभाई छगनभाई तोगड़िया को उतारा है, जिससे यहां लड़ाई त्रिकोणीय हो गई है।


राजकोट जिले की गोंडल सीट भी काफी अहम मानी जा रही है। बीजेपी ने यहां से एक बार फिर मौजूदा विधायक गीताबा जडेजा को उतारा है। गीताबा पूर्व विधायक जयराज सिंह जडेजा की पत्नी हैं। टिकट नहीं मिलने से पूर्व विधायक महिपत सिंह जाडेजा के नाराज बेटे अनिरुद्ध सिंह जाडेजा ने कांग्रेस उम्मीदवार यतीश गोविंदलाल देसाई को समर्थन दे दिया है। यहां आम आदमी पार्टी की तरफ से निमिशाबेन खूंट चुनाव लड़ रहे हैं।

राजकोट जिले की पूर्व सीट से कांग्रेस ने इंद्रनील राजगुरू को टिकट दिया है। इंद्रनील इसी साल कांग्रेस छोड़कर आम आदमी पार्टी में गए थे, लेकिन चुनाव से ठीक पहले वापस आ गए। इंद्रनील गुजरात के अमीर प्रत्याशियों की सूची में आगे हैं। पिछली बार यह सीट बीजेपी के खाते में गई थी और यहां अरविंद रैयाणी जीते थे, जबकि 2012 में यह सीट इंद्रनील ने जीती थी। बीजेपी ने इस बार यहां से उदय कनगड़ और आप ने राहुल भुवा को उतारा है।

आम आदमी पार्टी की तरफ से गुजरात में मुख्यमंत्री के उम्मीदवार घोषित इसुदान गढ़वी खंभालिया से चुनाव लड़ रहे हैं। ओबीसी वर्ग से आने वाले इसुदान राजनीति में आने से पहले तक पत्रकार थे। बीजेपी ने मूलुभाई बेरा और कांग्रेस ने विक्रम अर्जनभाई माडम को प्रत्याशी बनाया है। जामनगर उत्तर सीट से बीजेपी ने क्रिकेटर रविंद्र जडेजा की पत्नी रिवाबा जाडेजा को उतारा है। रिवाबा 2019 लोकसभा चुनाव के समय बीजेपी में शामिल हुईं थीं। कांग्रेस ने यहां से बिपेन्द्र सिंह जाडेजा और आप ने करसनभाई करमुर को टिकट दिया है। खास बात यह है कि रविंद्र जडेजा के पिता ने कांग्रेस उम्मीदवार को समर्थन दे दिया है।

इसी चरण में मोरबी में भी चुनाव है, जहां हुए पुल हादसे में 135 लोगों की मौत हुई थी। ऐसे में बीजेपी ने अपने मौजूदा विधायक और मंत्री ब्रजेश मेरजा का टिकट काटकर यहां से पूर्व विधायक कांतिलाल अमृतिया को मैदान में उतारा है। खास ये है कि 2017 के चुनाव में ब्रजेश मेरजा ने कांग्रेस के टिकट पर जीत हासिल की थी, लेकिन बाद में बीजेपी में चले गए थे और 2020 के उपचुनाव में फिर जीते थे। कांग्रेस ने यहां से जयंतिलाल जेराजभाई पटेल और आप ने पंकज कांतीलाल राणसरिया को मैदान में उतारा है।

बता दें कि गुजरात में दो चरणों में मतदान होना है। पहले चरण का मतदान एक दिसंबर को है जबकि दूसरे चरण का मतदान पांच दिसंबर को होना है। दूसरे चरण की 83 सीटों के लिए 833 उम्मीदवारों का प्रचार 3 दिसंबर तक चलेगा। जबकि नतीजे 8 दिसंबर को घोषित किए जाएंगे।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 30 Nov 2022, 7:43 PM
;