नरेश टिकैत ने खाप चौधरियों के साथ की बैठक, कहा- मतगणना में धांधली हुई तो खराब होगा माहौल, प्रशासन होगा जिम्मेदार

खाप चौधरियों ने किसानों से बड़ी संख्या में ट्रैक्टर लेकर मतगणना केंद्र आने की अपील की है। खाप नेताओं ने ऐलान किया है कि शामली और मुजफ्फरनगर में ही नहीं पूरे प्रदेश में किसान और आम आदमी मतगणना स्थल पर पहुंचेंगे। किसी भी तरह की धांधली नहीं होने देंगे।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

आस मोहम्मद कैफ

उत्तर प्रदेश चुनाव की वोटिंग के बाद अब मतगणना की बारी है। लेकिन काउंटिंग के एक दिन पहले मतगणना में गड़बड़ी की आशंका को लेकर माहौल गर्म हो गया है। समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव के आह्वान के बाद एक तरफ जहां सपा कार्यकर्ताओं का जमावड़ा स्ट्रांग रूम के बाहर हो गया है तो दूसरी तरफ किसानों के नेता भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) के राष्ट्रीय अध्यक्ष और बालियान खाप के चौधरी नरेश टिकैत ने भी किसानों से अपने वोट की निगरानी करने का आह्वान किया है।

नरेश टिकैत ने कहा कि 10 मार्च को सभी को अपनी वोट की निगरानी करनी है। यह देखना है कि जिसको वोट दिया था, उसे मिला है या नहीं। किसी भी तरह की धांधली से हालात बिगड़ते हैं, तो इसके लिए शासन-प्रशासन जिम्मेदार होगा। मतगणना पूरी निष्पक्षता से होनी चाहिए। नरेश टिकैत ने यह बात शामली के एमएसके रोड स्थित एक बैठक में कही है। यह बैठक सोमवार को आयोजित की गई थी। नरेश टिकैत के साथ जिलेभर के खाप चौधरी भी मौजूद थे।

नरेश टिकैत ने बुधवार को बताया कि कुछ माह पूर्व हुए पंचायत चुनाव में बीजेपी का सत्ता का दुरुपयोग पूरी दुनिया ने देखा था। विधानसभा चुनाव की मतगणना के दिन भी धांधलेबाजी हो सकती है। पंचायत चुनाव में जनता खामोश थी, लेकिन अब विधानसभा चुनाव में ऐसा बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने आह्वान किया कि मतगणना के दिन सभी लोग एकजुट रहें। कानून के दायरे में रहकर धांधलेबाजी का पुरजोर विरोध करें।


नरेश टिकैत ने कहा कि विजय जुलूस से भी परहेज करें। धारा 144 को लेकर नरेश टिकैत ने कहा कि प्रशासन धारा 288 भी लागू कर दे तो उससे कोई फर्क नहीं पड़ता। किसान ट्रैक्टर पर अपनी वोट की निगरानी के लिए आएंगे। हमारा मकसद शांति-व्यवस्था खराब करना नहीं है, लेकिन लोग एकजुट होंगे तो प्रशासन पर दबाव रहेगा कि वह निष्पक्ष मतगणना कराएगा।

भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि बीजेपी किसान और मजदूर विरोधी रही है। जिसके चलते किसानों को एकजुट होना पड़ता है। इस सरकार की गलत नीतियों के चलते ही किसानों को 13 माह तक आंदोलन करना पड़ा। जिसमें 750 किसान शहीद हो गए। इस सरकार को किसानों की शहादत से कोई फर्क नहीं पड़ा। हम भगवान से प्रार्थना करेंगे कि सरकार को सद्बुद्धि दे।

खाप चौधरियों ने यहां किसानों से बड़ी संख्या में ट्रैक्टर लेकर आने की अपील की है। गठवाला खाप के थांबेदार श्याम सिंह बहावड़ी ने ऐलान किया है कि शामली और मुजफ्फरनगर में ही नहीं पूरे प्रदेश में किसान और आम आदमी मतगणना स्थल पर पहुंचेंगे। किसी भी तरह की धांधली नहीं होने देंगे। शामली की पंचायत में ठाकुर वीर सिंह, बाबा रविंद्र, बाबा महिपाल, बाबा सतवीर सिंह, बाबा शौकेंद्र, विरेंद्र लाटियान, संजय कालखंडे, चैधरी नरेंद्र, किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष सवित मलिक, भाकियू के जिलाध्यक्ष कपिल खाटियान समेत बड़ी संख्या में भाकियू पदाधिकारी मौजूद रहे।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के वाराणसी, बरेली और सोनभद्र जिले में ईवीएम के पकड़े जाने के बाद मतगणना में गड़बड़ी की आशंका को बल मिल गया है। हालांकि चुनाव आयोग ने इस पर अपना स्पष्टीकरण देते हुए कहा है कि यह मशीनें ट्रेनिंग के लिए जा रही थीं। जिस पर विपक्ष ने गहरी आपत्ति की है। इससे पहले भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत भी किसानों से भारी संख्या में मतगणना स्थल पर जुटने का आह्वान कर चुके हैं।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;