राहुल गांधी ने मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ का जनादेश स्वीकार किया, बोले- विचारधारा की लड़ाई जारी रहेगी

राहुल गांधी की टिप्पणी राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की हार पर आई है, जहां बीजेपी ने बड़ी जीत दर्ज की है। जबकि कांग्रेस ने तेलंगाना में बड़ी जीत हासिल की है।

राहुल गांधी ने मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ के नतीजों पर कहा कि विचारधारा की लड़ाई जारी रहेगी
राहुल गांधी ने मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ के नतीजों पर कहा कि विचारधारा की लड़ाई जारी रहेगी
user

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने रविवार को छत्तीसगढ़, राजस्थान और मध्य प्रदेश के चुनाव परिणाम पर प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने छत्तीसगढ़, राजस्थान और मध्य प्रदेश में लोगों के जनादेश को स्वीकार करते हुए कहा कि विचारधारा की लड़ाई जारी रहेगी। साथ ही उन्होंने पार्टी को जनादेश देने के लिए तेलंगाना के लोगों को धन्यवाद दिया और कहा कि कांग्रेस 'प्रजालु तेलंगाना' के वादे को पूरा करेगी।

देश के पांचों चुनावी राज्यों में बड़े पैमाने पर प्रचार करने वाले राहुल गांधी ने एक्स पर कहा, "हम विनम्रतापूर्वक मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान के जनादेश को स्वीकार करते हैं- विचारधारा की लड़ाई जारी रहेगी।" उन्होंने आगे कहा, "मैं तेलंगाना के लोगों का बहुत आभारी हूं- हम प्रजालु तेलंगाना बनाने का वादा जरूर पूरा करेंगे। सभी कार्यकर्ताओं को उनकी कड़ी मेहनत और समर्थन के लिए दिल से धन्यवाद।"

राहुल गांधी की यह टिप्पणी राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की हार के बाद आई है, जहां बीजेपी ने बड़ी जीत दर्ज की है। जबकि कांग्रेस तेलंगाना में बड़ी जीत हासिल करने में कामयाब रही। राहुल गांधी ने इस साल 25 अगस्त से इन चार चुनावी राज्यों में 64 रैलियां और रोड शो किया था।


इस बीच, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने एक्स पर एक पोस्ट में कहा, "तेलंगाना के लोगों ने इतिहास रचा है और कांग्रेस पार्टी के पक्ष में जनादेश दिया है। यह तेलंगाना के लोगों की जीत है। यह तेलंगाना के लोगों और कांग्रेस पार्टी के प्रत्येक कार्यकर्ता की जीत है।” उन्होंने तेलंगाना के लोगों को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा, "कांग्रेस तेलंगाना में शांति, समृद्धि और प्रगति के लिए प्रतिबद्ध है।" उन्होंने कहा, "राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के लोगों ने कांग्रेस पार्टी को विपक्ष की भूमिका सौंपी है। हम विनम्रता के साथ लोगों के जनादेश को स्वीकार करते हैं।"

इस बीच, कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने भी कहा कि 2003 में पार्टी को ऐसे ही नतीजे मिले थे, लेकिन 2004 के आम चुनाव में उसने वापसी की और सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी और सरकार बनाई थी। रमेश ने कहा, "ठीक 20 साल पहले कांग्रेस छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और राजस्थान में विधानसभा चुनाव हार गई थी, जबकि केवल दिल्ली में जीत हासिल की थी, लेकिन कुछ महीनों के भीतर पार्टी ने वापसी की और आगे बढ़ी, लोकसभा चुनाव में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी और केंद्र में सरकार बनाई।” उन्होंने कहा कि कांग्रेस आगामी लोकसभा चुनावों के लिए तैयारी कर रही है।'


कांग्रेस नेताओं की यह टिप्पणी तब आई, जब आज राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में हुए चुनाव की मतगणना में बीजेपी ने स्पष्ट बहुमत के साथ बड़ी जीत हासिल की है। वहीं कांग्रेस को तेलंगाना में भारी अंतर से जीत मिली है। राजस्थान की 200 सदस्यीय विधानसभा के चुनाव में बीजेपी 115 सीटों पर आगे चल रही है, जबकि कांग्रेस 69 सीटों पर आगे थी। छत्तीसगढ़ में बीजेपी 55 और कांग्रेस 35 सीटों पर आगे है और मध्य प्रदेश में कांग्रेस 63 सीटों पर आगे है, जबकि सत्तारूढ़ बीजेपी 166 सीटों पर आगे है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;