तेलंगाना चुनावः सभी 119 सीटों पर वोटिंग खत्म, 5 बजे तक 63.94% मतदान, सबसे कम हैदराबाद में पड़े वोट

अब वोटों की गिनती 3 दिसंबर को होगी और उसी दिन नतीजे आएंगे। राज्य में मुख्य मुकाबला सत्तारूढ़ बीआरएस और कांग्रेस के बीच है, जहां बीआरएस लगातार तीसरा कार्यकाल पाने की कोशिश कर रही है, वहीं कांग्रेस राज्य की सत्ता में वापसी करने की उम्मीद में है।

तेलंगाना चुनाव के लिए वोटिंग खत्म, 5 बजे तक 63.94% मतदान, सबसे कम हैदराबाद में मतदान
तेलंगाना चुनाव के लिए वोटिंग खत्म, 5 बजे तक 63.94% मतदान, सबसे कम हैदराबाद में मतदान
user

नवजीवन डेस्क

तेलंगाना विधानसभा चुनाव के लिए आज सभी 119 सीटों पर शाम 5 बजे मतदान समापत हो गया। विभिन्न राजनीतिक दलों के समर्थकों के बीच झड़प की छोटी-मोटी घटनाओं को छोड़कर मतदान आमतौर पर शांतिपूर्ण रहा। राज्य में शाम 5 बजे तक 63.94% मतदान हुआ है, जो अभी बढ़ेगा, क्योंकि कई जगह बूथों पर लोग कतार में खड़े थे, जिन्हें मतदान की इजाजत दी गई है।

तेलंगाना में गुरुवार को हुए विधानसभा चुनाव के लिए मतदान में नक्सली क्षेत्र होने के कारण 13 निर्वाचन क्षेत्रों में मतदान शाम 4 बजे समाप्त हुआ, जबकि शेष 106 विधानसभा क्षेत्रों में मतदान शाम 5 बजे समाप्त हुआ। कई जगह शाम 5 बजे तक जो लोग मतदान केंद्रों पर कतार में खड़े थे उन्हें वोट डालने की अनुमति दी गई है। इसलिए देर रात कर मतदान का अंतिम प्रतिशत बढ़ने की संभावना है।


भारत निर्वाचन आयोग के अनुसार, शाम 5 बजे तक तेलंगाना में अनुमानित मतदान 63.94 प्रतिशत दर्ज किया गया। यह 2018 के चुनावों में दर्ज 73.7 प्रतिशत मतदान से काफी कम है। चुनाव आयोग और कई संगठनों द्वारा चलाए गए विशेष अभियान के बावजूद राजधानी हैदराबाद और अन्य शहरी क्षेत्रों में मतदान कम रहा। हैदराबाद में केवल 39.97 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया, जबकि आसपास के मेडचल मल्काजगिरी में 49.25 और रंगारेड्डी जिले में 53.03 प्रतिशत दर्ज किया गया।

मेडक में सबसे ज्यादा 80.28 फीसदी मतदान हुआ। जनगांव 80.23 प्रतिशत मतदान के साथ दूसरे स्थान पर रहा। अविभाजित आदिलाबाद और खम्मम जिलों में माओवादी प्रभाव वाले 13 निर्वाचन क्षेत्रों में मतदान शाम 4 बजे समाप्त हो गया। जिन निर्वाचन क्षेत्र शाम चार बजे मतदान समाप्त हुआ उसने सिरपुर, चेन्नूर, बेल्लमपल्ली, मनचेरियल, आसिफाबाद, मंथनी, भूपालपल्ली, मुलुगु, पिनापाका, येल्लांडु, कोठागुडेम, असवाराओपेट और भद्राचलम शामिल हैं।


आज राज्य के 3.26 करोड़ से कुछ अधिक मतदाताओं ने 2,290 उम्मीदवारों के राजनीतिक भाग्य का फैसला ईवीएम में कैद कर दिया है। अब वोटों की गिनती 3 दिसंबर को होगी और उसी दिन नतीजे आएंगे। राज्य में मुख्य मुकाबला सत्तारूढ़ बीआरएस और कांग्रेस के बीच है, जहां बीआरएस लगातार तीसरा कार्यकाल पाने की कोशिश कर रही है, वहीं कांग्रेस राज्य की सत्ता में वापसी करने की उम्मीद में है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;