यूपी चुनावः पांचवें चरण के मतदान के लिए आज शाम थमेगा प्रचार, केशव मौर्य, राजा भैया समेत कई दिग्गजों की साख दांव पर

इस चरण में अयोध्या भी शामिल है, जहां राममंदिर एक अहम मुद्दा है। इस चरण में 693 प्रत्याशी हैं, जिनमें मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह, नंद गोपाल नंदी, मोती सिंह जैसे मंत्री हैं। पूर्व मंत्रियों में अवधेश प्रसाद, तेजनारायण पांडेय का भी फैसला इसी चरण में होगा।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश चुनाव के पांचवें चरण में अवध और पूर्वांचल के 11 जिलों की 61 सीटों पर मतदान से पहले चुनाव प्रचार आज शाम थम जाएगा। इन सीटों पर 27 फरवरी को मतदान होगा। इस चरण में अयोध्या भी शामिल है, जहां राममंदिर का निर्माण एक अहम मुद्दा है। इस चरण में 693 प्रत्याशी किस्मत आजमा रहे हैं।

इस चरण में योगी सरकार में उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, इलाहाबाद पश्चिम से कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह, इलाहाबाद दक्षिण से नंद गोपाल नंदी, प्रतापगढ़ की पट्टी सीट से मोती सिंह जैसे मंत्रियों की प्रतिष्ठा दांव पर है। पूर्व मंत्रियों में अवधेश प्रसाद, तेजनारायण पांडेय उर्फ पवन पांडेय, कुंडा से रघुराज प्रताप सिंह की भी साख इसी चरण में दांव पर है।


मुख्य निर्वाचन अधिकारी अजय कुमार शुक्ला ने बताया कि पांचवें चरण में अमेठी, रायबरेली, सुल्तानपुर, चित्रकूट, प्रतापगढ़, कौशांबी, प्रयागराज, बाराबंकी, अयोध्या, बहराइच, श्रावस्ती और गोंडा के विधानसभा क्षेत्र आते हैं। इसके लिए शुक्रवार शाम छह बजे के बाद सभी दलों के प्रचार-प्रसार पर प्रभावी रूप से रोक लग जाएगी। शुक्ल ने बताया कि पोलिंग बूथों पर वोटर्स को किसी प्रकार की परेशानी का सामना न करना पड़े, इसके लिए समुचित व्यवस्था कराने के प्रशासन को आवश्यक निर्देश दिए गए हैं।

इस चरण में अयोध्या की गोसाईंगंज विधानसभा क्षेत्र में फिर से दो बाहुबलियों के बीच सियासी वर्चस्व की जंग चल रही है, जो सपा और बीजेपी से चुनाव लड़ रहे हैं। दोनों एक-एक बार विधायक रह चुके हैं। यहां बीएसपी, कांग्रेस सहित अन्य दल मुकाबले को त्रिकोणीय बनाने की जुगत में हैं।


बीजेपी से आरती तिवारी, सपा से अभय सिंह, कांग्रेस से शारदा जायसवाल, बसपा से राम सागर वर्मा, आप से आलोक द्विवेदी सहित कुल आठ प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं। यह सीट 2012 के चुनाव में वजूद में आई। पहले चुनाव में सपा के अभय सिंह ने बीएसपी से उतरे इंद्र प्रताप तिवारी खब्बू को शिकस्त दी थी। दोनों की पहचान बाहुबली के रूप में है।

उत्तर प्रदेश चुनाव के पांचवें चरण में जिन क्षेत्रों में मतदान होना है, उन हिस्सों को बीजेपी का मजबूत गढ़ माना जाता है। 2017 में बीजेपी ने यहां की 47 और सहयोगी अपना दल ने तीन सीटें जीती थीं। पांच सीटें बसपा, तीन सपा और एक सीट कांग्रेस के खाते में गई थी।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia