यूपी चुनाव: BJP में आए दलबदलू नेताओं को माया मिली ना राम, दूसरों के प्रचार के अलावा कोई काम नहीं मिला

पूर्व केंद्रीय मंत्री आरपीएन सिंह यूपी चुनाव के बीच बीजेपी में शामिल हुए एक दलबदलू नेता हैं, जो चुनाव भी नहीं लड़ रहे और अपने गृह जिले कुशीनगर के बाहर भी बीजेपी का प्रचार करते नहीं दिख रहे। एक और बड़ा उदाहरण मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव हैं।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले दूसरी पार्टियों से बीजेपी में शामिल होने वाले नेताओं को पार्टी में बड़ी भूमिका की उम्मीद थी, लेकिन इनमें से कुछ ही भाग्यशाली साबित हुए, जबकि अधिकतर नेताओं को पार्टी उम्मीदवारों के पक्ष में प्रचार करने के अलावा कोई जिम्मेदारी नहीं दी गई है। इस परिदृश्य में सबसे भाग्यशाली दलबदलू नेता पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद रहे हैं, जो चुनाव से कुछ ही पहले बीजेपी में शामिल हुए थे। उन्हें विधान परिषद में एक सीट मिली और फिर उन्हें योगी आदित्यनाथ के मंत्रालय में भी शामिल किया गया।

लेकिन सच्चाई यह भी है कि प्रारंभ में, राज्य में बीजेपी के नए ब्राह्मण चेहरे के रूप में पहचाने जाने वाले प्रसाद अब अपने गृह जिले शाहजहांपुर और उसके आसपास पार्टी के लिए प्रचार करने तक ही सीमित हैं। पूर्व केंद्रीय मंत्री आर पी एन सिंह यूपी चुनाव के बीच में बीजेपी में शामिल हुए एक और दलबदलू नेता हैं, जो चुनाव नहीं लड़ रहे हैं। और तो और आर पी एन सिंह अपने गृह जिले कुशीनगर के बाहर भी बीजेपी के लिए प्रचार करते नहीं दिख रहे हैं।


दलबदलू नेता का सबसे बड़ा उदाहरण मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव हैं, जो जनवरी में अपनी समाजवादी पार्टी छोड़कर बीजेपी में शामिल हो गई थीं। लखनऊ कैंट सीट से टिकट चाह रहीं अपर्णा को बीजेपी ने टिकट तक नहीं दिया। हालांकि उन्होंने यह कहते हुए बहादुरी से मोर्चा संभाला कि पार्टी का फैसला सबसे अच्छा है, लेकिन सूत्रों ने कहा कि टिकट न मिलने से वह बेहद निराश थीं। अपर्णा अब बीजेपी के लिए प्रचार कर रही हैं और समाजवादी पार्टी के खिलाफ बयानों से अपने परिवार में कई पंख लगा चुकी हैं।

इस बीच, बीजेपी के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने कहा, "ज्यादातर मामलों में, जो अन्य दलों से आते हैं, उन्हें चुनाव लड़ने का मौका देने से पहले कूलिंग पीरियड दिया जाता है। केवल असाधारण मामलों में ही टिकट उन लोगों को दिया जाता है जो पार्टी में शामिल होते हैं। इसके अलावा, जो लोग बीजेपी में शामिल होते हैं, उनके लिए जरूरी नहीं कि चुनाव लड़ना प्राथमिकता हो।"


कुछ ऐसा ही हाल समाजवादी पार्टी में भी देखने को मिल रहा है। चुनाव से ठीक पहले सपा में शामिल हुए बीजेपी विधायक राकेश राठौर को उनकी सीतापुर सीट से चुनाव लड़ने का टिकट नहीं दिया गया। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता इमरान मसूद भी सपा में शामिल होने के बाद ठंडे बस्ते में चले गए। बाद में मसूद को शांत किया गया और पार्टी के लिए प्रचार करने के लिए कहा गया। हालांकि, बीजेपी से आए स्वामी मौर्य, दारा सिंह चौहान समेत कई नेताओं को सपा ने टिकट भी दिया है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia