तेलंगाना में मतदान प्रतिशत बढ़कर 71.23 फीसदी हुआ, सवाल उठने पर आयोग ने स्थिति साफ करने का दिया आश्वासन

मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने आखिरी बार मतदान के समय और रात साढ़े नौ बजे तक मतदान की सूचना देने वाले निर्वाचन क्षेत्रों और मतदान केंद्रों की संख्या के बारे में पूछे गए सवालों का जवाब नहीं दिया और किया कि कुल मिलाकर चुनाव प्रक्रिया सुचारू रूप से चली।

तेलंगाना में मतदान प्रतिशत बढ़कर 71.23 हुआ, सवाल उठने पर आयोग ने स्थिति स्पष्ट करने का दिया आश्वासन
तेलंगाना में मतदान प्रतिशत बढ़कर 71.23 हुआ, सवाल उठने पर आयोग ने स्थिति स्पष्ट करने का दिया आश्वासन
user

नवजीवन डेस्क

तेलंगाना विधानसभा चुनाव के लिए गुरुवार 30 नवंबर को हुई वोटिंग के दूसरे दिन शुक्रवार शाम को मतदान प्रतिशत बढ़कर 71.23 प्रतिशत कर दिया गया। इस पर सवाल उठने पर राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने आश्वासन दिया कि मतदान प्रतिशत में वृद्धि और कुछ स्थानों पर संदिग्ध धांधली पर संदेह दूर हो जाएगा।

इससे पहले गुरुवार को शाम 5 बजे मतदान समाप्त होने के बाद चुनाव आयोग ने अनुमानित मतदान प्रतिशत 63.94 बताया था। देर रात तक इसमें संशोधन किया गया। शुक्रवार सुबह मतदान प्रतिशत 70.66 प्रतिशत बताया गया। शाम को इसे संशोधित कर 71.23 प्रतिशत कर दिया गया।

दोपहर में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए, सीईओ विकास राज ने आश्वासन दिया था कि मतदान प्रतिशत में वृद्धि और कथित धांधली पर स्थिति साफ हो जाएगी। गुरुवार रात मतदान प्रतिशत में वृद्धि और कुछ निर्वाचन क्षेत्रों में हो रही संदिग्ध धांधली को लेकर राजनीतिक दलों के बीच संदेह के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, "यह साफ हो जाएगा।" सीईओ ने कहा कि पर्यवेक्षकों और रिटर्निंग अधिकारियों द्वारा जांच का प्राथमिक उद्देश्य स्थिति को स्पष्ट करना है क्योंकि वे राजनीतिक दलों और उम्मीदवारों के आरोपों सहित उनके पास आने वाले सभी फ़ीड को देखेंगे। उन्होंने कहा, ''हमें इसके नतीजे का इंतजार करना चाहिए।''


मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि कुछ निर्वाचन क्षेत्रों में मतदान रात 9.30 बजे तक चला। जो लोग शाम 5 बजे मतदान केंद्रों पर पहुंच गए थे, उन्हें वोट डालने की अनुमति दी गई। आखिरी बार मतदान के समय और रात साढ़े नौ बजे तक मतदान की सूचना देने वाले निर्वाचन क्षेत्रों और मतदान केंद्रों की संख्या के बारे में पूछे गए सवालों का उन्‍होंने जवाब नहीं दिया।

सीईओ ने कहा कि मतदान के बाद ईवीएम को रिसेप्शन सेंटरों पर लाया गया और उम्मीदवारों या उनके प्रतिनिधियों की उपस्थिति में पर्यवेक्षकों और रिटर्निंग अधिकारियों द्वारा जांच की गई। उन्होंने दावा किया कि कुल मिलाकर चुनाव प्रक्रिया सुचारू रूप से चली। उन्होंने कहा, ''छिटपुट संघर्ष के बीच कुछ स्थानों पर ईवीएम बदलने की जरूरत पड़ी।''

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि मंत्रियों के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज की गई है। उन्होंने कहा कि जब्ती और आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के संबंध में लगभग 13,000 मामले दर्ज किये गये। उन्होंने कहा, "यह संख्या 2018 की तुलना में अभूतपूर्व है, जब मुश्किल से 2,400 मामले दर्ज किए गए थे। हमारा ध्यान एनफोर्समेंट पर बहुत अधिक रहा है और हम काफी अच्छे परिणाम देख रहे हैं।"


सीईओ ने कहा कि सभी 119 विधानसभा क्षेत्रों में 35,561 मतदान केंद्रों पर कुल 3,26,02,799 मतदाता वोट डालने के पात्र थे। उन्होंने कहा कि पहली बार शुरू की गई घरेलू वोटिंग के लिए 80 साल से अधिक उम्र के 17,108 मतदाताओं के मामले में मंजूरी दी गई थी और उनमें से 16,005 ने मतदान किया था। इसी प्रकार 9,961 दिव्यांग मतदाताओं के लिए घरेलू मतदान को मंजूरी दी गई और उनमें से 9,459 ने मतदान किया। सीईओ ने कहा कि 1.80 लाख से अधिक कर्मचारियों ने डाक मतपत्रों के माध्यम से मतदान किया।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;