गुजरात चुनाव परिणामः स्पष्ट बहुमत की ओर बीजेपी, लेकिन कई दिग्गज मंत्रियों को मिली करारी हार

गुजरात विधान सभा चुनाव के अब तक आए नतीजों में बीजेपी बहुमत का आंकड़ा पार करती नजर आ रही है। लेकिन इसके बावजूद बीजेपी के कई बड़े मंत्री अपनी सीट बचाने में नाकाम रहे हैं।

फोटो: सोशल मीडिया 
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

गुजरात विधान सभा चुनाव के नतीजों ने साफ कर दिया है कि गुजरात में बीजेपी छठी बार सरकार बनाने जा रही है। अब तक आ चुके परिणामों में बीजेपी 100 सीटों पर और कांग्रेस 79 सीटों पर निर्णायक बढ़त बनाए हुए है। जैसे-जैसे परिणाम आ रहे हैं वैसे-वैसे दोनों ही दलों के कई नेताओं के भाग्य का फैसला होता जा रहा है।

गुजरात में दोनों दलों के कई दिग्गज नेताओं को कहीं हार और कहीं जीत का सामना करना पड़ा है। बीजेपी के सीएम उम्मीदवार विजय रुपाणी ने राजकोट पश्चिम से अपनी जीत दर्ज की है। भावनगर पश्चिम से बीजेपी के जीतू वधानी ने कांग्रेस उम्मीदवार गोहिल दिलीप सिंह को लगभग 11 हजार वोटों से हराया। मेहसाणा सीट से डिप्टी सीएम नितिन पटेल ने कांग्रेस प्रत्याशी पटेल जिवाभाई अंबालाल को लगभग 350 वोटों से हराया।

गुजरात सरकार के कई ऐसे बड़े मंत्री हैं, जिन्हें हार का मुंह देखना पड़ा है। बीजेपी की ओर से हारने वाले बड़े नामों में गुजरात सरकार में सामाजिक न्याय राज्यमंत्री रहे केशाजी ठाकोर दीयोदेर सीट से, गढ्डा सीट से सामाजिक न्यायमंत्री आत्माराम परमार बोटाद, सोमनाथ से जल आपूर्ति मंत्री जशा बारड़ और कृषि मंत्री चिमन सापरीया शामिल हैं। इसके अलावा बनासकांठा की वाव सीट से स्वास्थ्य मंत्री शंकर चौधरी को भी हार का सामना करना पड़ा है। वहीं बीजेपी का गढ़ माने जाने वाले अहमदाबाद शहर की दरियापुर सीट से कांग्रेस के गयासुद्दीन शेख ने बीजेपी के भरत बरोट को शीकस्त दी है।

कांग्रेस की बात करें तो राज्य में इसके दोनों बड़े नेता अपना चुनाव हार गए हैं। गुजरात कांग्रेस के बड़े नेता अर्जुन मोढवाडिया पोरबंदर सीट से अपना चुनाव हार गए हैं। वहीं कच्छ जिले की मांडवी सीट से गुजरात कांग्रेस के अन्य बड़े नेता शक्ति सिंह गोहिल भी अपना चुनाव हार गए हैं। हालांकि कांग्रेस के ही परेश धनानी ने अमरेली से जीत दर्ज की है। उन्होंने बीजेपी के बवकुभाई नाथाभाई को लगभग 12 हजार वोटों से हराया है।

वहीं राधनपुर सीट से अल्पेश ठाकोर ने बीजेपी उम्मीदवार सोलंकी लाविंगी को 13 हजार वोटों से हराया है। दलित अधिकारों के लिए लड़ने वाले जिग्नेश मेवाणी ने बनासकांठा जिले की वडगाम सीट पर 18,150 वोटों से जीत हासिल की है। मेवाणी का मुकाबला बीजेपी के विजय चक्रवर्ती से था और वे यहां पर एक विजेता के तौर पर उभरे हैं। हालांकि पाटीदारों को आरक्षण की मांग के लिए आंदोलन करने वाले हार्दिक पटेल के तीनों ही उम्मीदवार चुनाव हार गए हैं। हार्दिक ने धोराजी से ललित वसोया, जुनागढ़ से अमित थुमार और काटाग्राम से जिग्नेश मेस्वा को टिकट दिया था।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


लोकप्रिय