कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद राहुल गांधी का पहला इंटरव्यू : प्रधानमंत्री-बीजेपी की नफरत की राजनीति से मिली कांग्रेस को मजबूती, गुजरात में कांग्रेस के पक्ष में एकतरफा होंगे नतीजे

कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद राहुल गांधी ने अपने पहले इंटरव्यू में कहा कि बीजेपी के पास कोई विजन नहीं है जिससे गुजरात का चुनाव एकतरफा होने वाला है और कांग्रेस हर हाल में जीतकर आएगी।

फोटो: सोशल मीडिया 
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद दूसरे दौर के मतदान से एक दिन पहले राहुल गांधी ने एक गुजराती चैनल को इंटरव्यू दिया। इंटरव्यू में राहुल गांधी ने बीजेपी की ओर से लगाए गए कई आरोपों का जवाब दिया। उन्होंने कहा,“गुजरात का चुनाव एकतरफा होने वाला है और कांग्रेस की जीत होगी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेताओं ने मुझे गुजरात में ज्यादा कैंपेन करने को मना किया था लेकिन मुझे काम में रूची है, परिणाम में नहीं।” उन्होंने कहा, “गीता में लिखा हुआ है काम करो, फल की चिंता मत करो, मैं गीता के उन्ही पंक्तियों को मानता हूं। कांग्रेस पार्टी एक पुरानी विचारधारा वाली पार्टी है और सबको लेकर चलती है।”

बीजेपी और पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि गुजरात में बीजेपी के पास कोई विजन नहीं है। पीएम मोदी गुजरात की जनता के सामने कोई विजन नहीं रख पाए। चुनावी रैलियों में पीएम मोदी या तो अपनी बात करते रहे या फिर कांग्रेस के बारे में बोलते रहे लेकिन गुजरात के लिए उन्होंने कुछ नहीं कहा।

राहुल गांधी ने कहा, “गुजरात चुनाव राहुल और मोदी के बीच नहीं देखा जाना चाहिए , ये चुनाव गुजरात के लोगों के लिए और उनके विकास के लिए है। ये चुनाव गुजरात की आवाम, किसान, नौजवान और महिलाओं के मुद्दों के लिए है।

उन्होंने कहा कि पिछले चार महीने से गुजरात के लोगों के बीच हूं और मैंने पिछले कुछ दिनों में गुजरात के लिए दिल से काम किया है। मैंने वहां के लोगों से बातचीत की। मैंने सिर्फ प्यार से लोगों से गले मिला, जो सुना वहीं बोला। सूरत के व्यापारियों की बात हो या आदिवासियों की जो सुना वो मैने बोला। जिसके बाद बीजेपी डर के मारे घबरा गई है।

बीजेपी के मंदिर जाने के आरोप पर तंज कसते हुए कहा कि मेरे मंदिर जाने पर क्या कोई मनाही है? मेरे मंदिर जाने पर बीजेपी के लोग सवाल उठा रहे हैं, दरअसल वो घबराए हुए हैं। आप मेरी यात्रा को देखेंगे तो साफ पता चलेगा कि मैं मंदिर जाता रहता हूं। मै उत्तराखंड के केदरानाथ मंदिर गया।

राहुल गांधी ने गुजरात दौरा के दौरान हुए एक घटना को जिक्र करते हुए कहा कि मै एक मंदिर गया तो वहां एक पुजारी मिले, जिन्होंने कहा कि ये शॉल है मेरी बेटी को दे देना। मैंने पुजारी से पूछा कि कौन बेटी तो उन्होंने कहा सोनिया गांधी को, फिर मैने मां को फोन लगाया और उनसे बात कराई। इन पलों को देखकर मैं भावुक हो गया और मेरी आंख आंसुओं से भर गए।

उन्‍होंने बीजेपी और पीएम नरेंद्र मोदी पर नफरत की राजनीति करने का आरोप लगाते हुए कहा कि उनके परिवार पर लगाए जाने वाले आरोप और नफरत की राजनीति से और मजबूत होते गए है। उन्‍होंने मोदी पर तंज कसते हुए कहा कि मुझे मजबूत बनाने में पीएम मोदी का सबसे बड़ा योगदान है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 13 Dec 2017, 3:17 PM
लोकप्रिय