वर्ल्ड कप 2019: फाइनल मुकाबले में टूटेगा सचिन का 16 साल पुराना रिकॉर्ड? इन 2 बल्लेबाजों के पास होगा मौका

टूर्नामेंट के खिताबी मुकाबले में अगर जो रूट 125 रन बनाने में सफल होते हैं और विलियमसन 126 रनों की पारी खेलते हैं तो ये दोनों सचिन तेंदुलकर के किसी एक वर्ल्ड कप में सबसे अधिक 673 रन बनाने के 16 साल पुराने रिकॉर्ड को तोड़ने में सफल हो जाएंगे।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 टूर्नामेंट अपने समापन की ओर बढ़ रहा है। इस टूर्नामेंट के हर मैच में जहां एक तरफ कई नए कीर्तिमान कायम हुए तो वहीं दूसरी तरफ सालों पुराने कई बड़े रिकॉर्ड्स ध्वस्त भी हुए। रविवार को लंदन के ऐतिहासिक लॉर्ड्स मैदान में इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के बीच इस टूर्नामेंट का फाइनल मुकाबला खेला जाएगा और दोनों में से एक टीम पहली बार विश्व विजेता बनेगी। 27 साल के बाद इंग्लैंड के लिए फाइनल में पहुंचना अपने आप में गौरव की बात है।

इस वर्ल्ड कप के फाइनल मुकाबले में अभी भी एक नए कीर्तिमान की उम्मीद कायम है। इस मैच में अगर इंग्लैंड के जो रूट और न्यूजीलैंड कप्तान केन विलियमसन का बल्ला चला तो ये दोनों बल्लेबाज मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर के 16 साल पुराने रिकॉर्ड को ध्वस्त कर सकते हैं।

रविवार को लॉर्ड्स स्टेडियम में होने वाले खिताबी मुकाबले में अगर जो रूट 125 रन बनाने में सफल होते हैं तो वह भारत के महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर के किसी एक वर्ल्ड कप में सबसे अधिक 673 रन बनाने के 16 साल पुराने रिकॉर्ड को तोड़ने में सफल हो जाएंगे। इसी तरह, अगर विलियमसन ने 126 रनों की पारी खेली तो वह भी इस रिकॉर्ड को तोड़ अपना नाम स्वर्णिम अक्षरों में दर्ज कराने में सफल होंगे।

किसी भी खेल में रिकॉर्ड बनते ही टूटने के लिए हैं लेकिन कुछ रिकॉर्ड ऐसे होते हैं, जो सालों तक नहीं टूटते। किसी एक वर्ल्ड कप (50 ओवर) में सबसे अधिक रन बनाने का सचिन का यह रिकॉर्ड इन्हीं में से एक है।


आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 में इस बार रोहित शर्मा और डेविड वार्नर समेत तीन बल्लेबाज 600 रनों के आंकड़े को पार करने में सफल हुए। हालांकि बुधवार के मैच में रोहित शर्मा से उम्मीद थी कि वे सचिन के इस रिकॉर्ड को तोड़ देंगे, लेकिन ऐसा हो नहीं सका। अब नजर केन (548) और रूट (549) पर है, जो अब तक 600 रनों का आंकड़ा पार नहीं कर पाए हैं, लेकिन बावजूद इसके सचिन के रिकॉर्ड के करीब हैं।

इस साल भारत के रोहित शर्मा (648) और आस्ट्रेलिया के डेविड वार्नर (647) इस रिकार्ड के काफी करीब पहुंचे लेकिन वे इसे भेद नहीं सके। पांच शतक और एक अर्धशतक लगाने वाले रोहित इस रिकार्ड से 27 रन दूर रह गए जबकि तीन शतक और तीन अर्धशतक लगाने वाले वॉर्नर 28 रन दूर रहते हुए स्वदेश वापस लौट गए।

रोहित को न्यूजीलैंड के साथ हुए सेमीफाइनल मैच में सचिन द्वारा स्थापित इस मील के पत्थर को पार करने के लिए 28 रनों की जरूरत थी और पूरे टूर्नामेंट के दौरान जिस तरह की बल्लेबाजी उन्होंने की थी, उसे देखते हुए लग रहा था कि वह आसानी से अपने मुंबइया साथी को पीछे छोड़ देंगे लेकिन रोहित अपनी अंतिम पारी में एक रन ही बना सके।

इसी तरह, वार्नर ने अपनी अंतिम पारी में नौ रन बना सके। वार्नर इंग्लैंड के साथ हुए सेमीफाइनल मैच में सस्ते में आउट हुए और उनकी टीम इस मैच में हारकर वर्ल्ड कप से बाहर हो गई। अब न्यूजीलैंड और इंग्लैंड फाइनल में पहुंच चुके हैं और इस साल क्रिकेट जगह को नया वर्ल्ड चैंपियन मिलने वाला है।


सचिन की बात करें तो 2003 में इस महान बल्लेबाज ने 11 मैचों की 11 पारियों में 61.18 की औसत से कुल 673 रन बनाए थे। इसमें छह अर्धशतक और एक शतक शामिल था। सचिन का सर्वोच्च व्यक्तिगत स्कोर 152 रन रहा था। सचिन ने वर्ल्ड कप में छह शतक लगाए हैं। रोहित ने हालांकि इस रिकॉर्ड की बराबरी कर ली है।

सचिन के नाम वर्ल्ड कप मुकाबलों में कुल 15 अर्धशतक हैं, जो एक रिकॉर्ड है। उनके बाद सबसे अधिक 10 अर्धशतक बांग्लादेश के शाकिब ने लगाए हैं, जो इस वर्ल्ड कप में दो शतक और पांच अर्धशतकों की मदद से कुल 606 रन बनाने में सफल रहे।

(आईएएनएस इनपुट के साथ)

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;