झारखंड में 15 जनवरी तक शत-प्रतिशत वयस्कों को पहला डोज देने का लक्ष्य, अब तक कोविड टीके के 3 करोड़ डोज लगे

लगभग साढ़े तीन करोड़ की आबादी वाले झारखंड में कोविड टीके के तीन करोड़ डोज लगाये जा चुके हैं। 3 जनवरी को राज्य ने यह आंकड़ा प्राप्त किया। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री बन्ने गुप्ता ने ट्वीट कर इस उपलब्धि की जानकारी दी है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

लगभग साढ़े तीन करोड़ की आबादी वाले झारखंड में कोविड टीके के तीन करोड़ डोज लगाये जा चुके हैं। 3 जनवरी को राज्य ने यह आंकड़ा प्राप्त किया। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री बन्ने गुप्ता ने ट्वीट कर इस उपलब्धि की जानकारी दी है। राज्य ने आगामी पंद्रह जनवरी तक शत-प्रतिशत लोगों को टीके का पहला डोज देने का लक्ष्य तय किया है।

राज्य में 3 जनवरी की शाम तक कुल 3 करोड़ 52 हजार 183 डोज दिये जा चुकी हैं। इसमें 1 करोड़ 86 लाख 81 हजार 412 ने पहला और 1 करोड़ 13 लाख 70 हजार 771 लोगों ने दूसरा डोज लिया है। झारखंड को यह आंकड़ा प्राप्त करने में 11 माह 17 दिनों का वक्त लगा। राज्य में कोरोना टीकाकरण की शुरूआत पिछले साल 16 जनवरी को हुई थी। स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने यह सूचना साझा करते हुए राज्यवासियों से कोविड टीकाकरण अभियान का हिस्सा बनने की अपील की है।


स्वास्थ्य विभाग द्वारा निर्धारित लक्ष्य के अनुसार 18 साल से ज्यादा उम्र के 2 करोड़ 41 लाख 21 हजार 312 लोगों को टीके दिये जाने हैं। इनमें से 55.60 लाख लोगों को टीके का पहला डोज देना अभी बाकी है। इसी तरह एक करोड़ 28 लाख लोगों को दूसरा डोज दिया जाना बाकी है। इनके अलावा 15 से 18 वर्ष के लगभग 29 लाख किशोर-किशोरियों को टीके दिये जाने हैं।इस आयु वर्ग के लिए टीकाकरण 3 जनवरी को शुरू हुआ है। पहले दिन मात्र 19 हजार बच्चों को टीके लगाये जा सके।

राज्य के छह जिले ऐसे हैं, जहां 50 प्रतिशत वयस्कों को दोनों डोज का टीका लग चुका है। ऐसे जिलों में पूर्वी सिंहभूम, दुमका, हजारीबाग, खूंटी, रामगढ़, रांची तथा सिमडेगा शामिल हैं। राज्य के 24 में से 10 जिले ऐसे हैं, जहां लक्ष्य के विरुद्ध 80 प्रतिशत वयस्कों को टीके का पहला डोज लगा है। इन जिलों में पूर्वी सिंहभूम, दुमका, हजारीबाग, जामताड़ा, खूंटी, कोडरमा, पाकुड़, रामगढ़, रांची तथा साहिबगंज शामिल हैं।


राज्य के पूर्वी सिंहभूम ने पहले डोज का 91 प्रतिशत लक्ष्य हासिल कर लिया है, जबकि खूंटी ने 85 और रांची ने82 उपलब्धि हासिल की है। टीकाकरण की सबसे धीमी रफ्तार गिरिडीह में है, जहां मात्र 68 उपलब्धि हासिल हुई है। इसके अलावा लोहरदगा में69 और पलामू में70 प्रतिशत लोगों का टीकाकरण हो पाया है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia