‘श्रमिक स्पेशल’ ट्रेनों में अब तक 80 मजदूरों की मौत पर प्रियंका बोलीं- सरकार संवेदनहीन, हमेशा की गई उपेक्षा

प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर कहा है कि श्रमिक ट्रेनों में 80 लोगों की मृत्यु हो गई। 40% ट्रेनें लेट चल रही हैं। कितनी ट्रेनें रास्ता भटक गईं। कई जगह यात्रियों के साथ अमानवीय व्यवहार की तस्वीरें हैं। इन सबके बीच रेल मंत्रालय का ये कहना कि कमजोर लोग ट्रेन से यात्रा न करें चौकाने वाला है।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कोरोना संकट के बीच देशभर में जारी लॉकडाउन के दौरान प्रवासी मजदूरों के लिए चलाई गई श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में 9 मई से 7 मई के बीच करीब 80 लोगों की मौत हुई है। ये जानकारी अंग्रेजी अखबार हिंदुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट से सामने आई है। मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि संख्या रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) की ओर से आए आंकड़ों के अध्ययन के बाद सामने आए हैं। अब इस रिपोर्ट का हवाला देते हुए कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने मोदी सरकार और रेल मंत्री पर हमला बोला है।

इसे भी पढ़ें-देश में कोरोना ने तोड़े सभी रिकॉर्ड, 24 घंटे में 8380 नए केस, 193 की मौत, कुल संक्रमित 1 लाख 82 हजार के पार

प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर कहा है कि श्रमिक ट्रेनों में 80 लोगों की मृत्यु हो गई। 40% ट्रेनें लेट चल रही हैं। कितनी ट्रेनें रास्ता भटक गईं। कई जगह यात्रियों के साथ अमानवीय व्यवहार की तस्वीरें हैं। इन सबके बीच रेल मंत्रालय का ये कहना कि कमजोर लोग ट्रेन से यात्रा न करें चौकाने वाला है। श्रमिक ट्रेनों की शुरू से उपेक्षा की गई। जबकि इस मौके पर श्रमिकों के साथ ज्यादा संवेदनशीलता के साथ काम लेना चाहिए।

आपको बता दें, हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि उसने सभी आंकड़ों का अध्ययन किया और इससे इन मौतों के बारे में पता चलता है। रेलवे की ओर से ये श्रमिक ट्रेन 1 मई को शुरू किये गए थे और 27 मई तक 3,840 ट्रेने चलाई गई हैं। इसके जरिए करीब 50 लाख श्रमिकों को उनके घर पहुंचाया गया है। इसी हफ्ते बुधवार को पिछले कुछ दिनों की यात्रा के दौरान नौ लोगों की मौत की खबर सामने आई थी। हालांकि, रेल मंत्रालय ने तत्काल साफ किया कि ज्यादातर उन लोगों की मौत हुई जो किसी बीमारी से ग्रस्त थे। रेलवे की ओर से दावे उन मीडिया रिपोर्ट्स के बाद किये गये जिसमें कहा गया था कि कई यात्रियों की मौत गर्मी, भूख और अत्यधिक थकावट से हुई।

हालांकि, ये पहली बार है जब मौतों को लेकर कुछ और विस्तृत जानकारी सामने आई है। आरपीएफ के एक अधिकारी ने संख्या की पुष्टि की है और कहा है कि एक शुरुआती लिस्ट तैयार कर ली गई है। हालांकि, फाइनल लिस्ट राज्यों से बात करने के बाद तैयार की जा सकेगी। रेल मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने 80 लोगों की मौत के बारे में पूछे जाने पर कहा- 'रेलवे चेयरमैन बोर्ड ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में सवालों का जवाब दिया है।' रिपोर्ट के अनुसार नॉर्थ ईस्ट जोन में 18 मौत हुई। वहीं, नॉर्थ सेंट्रल में 19, ईस्ट कोस्ट रेलवे जोन में 13 मौत हो चुकी है। नॉर्दन रेलवे जोन में भी 10 मौत हुए हैं। बता दें कि करीब 80 प्रतिशत श्रमिक ट्रेन उत्तर प्रदेश और बिहार के लिए रवाना किए गये हैं। गौरतलब है कि रेल मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को लोगों से अपील की थी कि गंभीर रूप से बीमार, बच्चे, गर्भवती महिलाएं और 65 साल से ज्यादा उम्र के लोग श्रमिक ट्रेन से तभी यात्रा करें जब बहुत जरूरी हो।

इसे भी पढ़ें-1 जून से चलेंगी 200 नई स्पेशल ट्रेनें, सफर से पहले जान लें रेलवे के ये नियम

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia