अगर चीन के साथ सीमा मुद्दे को उचित तरीके से नहीं निपटा गया तो गंभीर स्थिति पैदा हो सकती है: मनमोहन

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कांग्रेस कार्यकारिणी (सीडब्ल्यूसी) की बैठक में चीन पर पार्टी के दृष्टिकोण को दोहराते हुए कहा कि अगर इस मुद्दे से उचित तरीके से नहीं निपटा गया तो इससे गंभीर स्थिति पैदा हो सकती है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

आईएएनएस

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कांग्रेस कार्यकारिणी (सीडब्ल्यूसी) की बैठक में चीन पर पार्टी के दृष्टिकोण को दोहराते हुए कहा कि अगर इस मुद्दे से उचित तरीके से नहीं निपटा गया तो इससे गंभीर स्थिति पैदा हो सकती है। पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के इस विचार का समर्थन करते हुए कि लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर आमना-सामना एक पूर्ण विकसित संकट है, मनमोहन सिंह ने कहा, "सीमा पर बने संकट से अगर दृढ़ता से नहीं निपटा गया, तो इससे गंभीर स्थिति पैदा हो सकती है।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सर्वदलीय बैठक में भाग ले चुके पूर्व रक्षामंत्री ए.के. एंटनी और राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद ने सीडब्ल्यूसी को सीमा की स्थिति पर जानकारी दी। सर्वदलीय बैठक में मोदी के बयान और बाद में पीएमओ द्वारा स्पष्टीकरण के बाद मनमोहन सिंह ने सोमवार को प्रधानमंत्री की निंदा की थी और उन पर "गलत सूचना" देने का आरोप लगाया था। सिंह ने कहा था कि प्रधानमंत्री को अपने शब्दों के असर के बारे में पता होना चाहिए।

सिंह ने कहा था, "प्रधानमंत्री अपने शब्दों का इस्तेमाल अपने रुख के एक अनुमोदन के रूप में नहीं कर सकते और उन्हें यह हर हाल में सुनिश्चित करना चाहिए कि सरकार के सभी अंग इस संकट से निपटने और इसे और बढ़ने से रोकने के लिए एकसाथ मिलकर काम करें।"

मनमोहन सिंह ने सोमवार को अपने बयान में कहा था, "हम सरकार को याद दिलाते हैं कि गलत सूचना कूटनीति या निर्णायक नेतृत्व का कोई विकल्प नहीं है।"

मनमोहन सिंह शुक्रवार की सर्वदलीय बैठक में, वास्तविक नियंत्रण रेखा पर गलवान घाटी में 15 जून की रात की घटना, जिसमें एक कमांडिंग ऑफिसर सहित 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे, पर मोदी के बयान और बाद में पीएमओ के स्पष्टीकरण की आलोचना कर रहे थे।

प्रधानमंत्री के उस बयान का इस्तेमाल चीन ने गलवान घाटी में अपने कुकृत्यों से इंकार करने के लिए किया था।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


लोकप्रिय
next