कर्नाटक विधानसभा चुनाव: ‘डेटा चोरी’ के बाद अब बीजेपी की ‘डेट चोरी’ को लेकर विवाद

बीजेपी के आईटी सेल प्रमुख अमित मालवीय चुनाव आयोग से पहले कर्नाटक विधानसभा चुनाव की तारीख का ऐलान कर बुरी तरह फंस गए हैं। इस मुद्दे पर कांग्रेस ने कहा कि बीजेपी ‘सुपर इलेक्शन कमीशन’ बन गई है।

फोटो: सोशल मीडिया 
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कर्नाटक विधानसभा चुनाव की तारीख का ऐलान हो चुका है। लेकिन चुनाव आयोग के प्रेस कांफ्रेंस के पहले ही बीजेपी आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने चुनाव की तारीख को ट्वीट कर दिया था। इस मुद्दे पर खुद को फंसता देख अमित मालवीय ने आनन-फानन में ट्वीट को डिलीट कर दिया, लेकिन कांग्रेस और शिवसेना इसे लेकर बीजेपी पर लगातार हमलावर हैं। सोशल मीडिया पर भी अमित मालवीय की जमकर आलोचना हो रही है।

चुनाव आयोग ने कहा है कि वह पूरे मामले की जांच कराएगा। खबरों के मुताबिक, चुनाव आयोग बीजेपी के आईटी सेल के हेड अमित मालवीय के खिलाफ जांच को आईबी और सीबीआई को सौंप सकता है।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अमित मालवीय को लेकर बीजेपी पर हमला बोला है। उन्होंने कहा, “अब जबकि बीजेपी आईटी सेल ने कर्नाटक चुनाव की घोषणा कर दी है, तो अब हमारे टॉप सीक्रेट चुनाव प्रचार वीडियो की झलक देखने का वक्‍त है।” इसके बाद राहुल गांधी ने लिखा, “कर्नाटक विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस के चुनाव अभियान की अच्छी शुरुआत हो गई। अमित शाह ने कहा कि येदुरप्पा की सरकार सबसे भ्रष्ट थी। बिल्कुल सही।”

कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने तंज कसते हुए बीजेपी को ‘सुपर इलेक्शन कमीशन’ तक बता डाला। उन्होंने ट्वीट कर कहा, “चुनाव आयोग की विश्वसनीयता को ये सीधी चुनौती है।” उन्होंने सवाल पूछते हुए लिखा कि क्या संवैधानिक संस्थाओं का डेटा भी बीजेपी चुरा रही है? क्या चुनाव आयोग अमित शाह को नोटिस देगा और बीजेपी के आईटी सेल पर एफआईआर दर्ज करवाएगा?

कांग्रेस नेता वीरप्पा मोइली ने कहा, “अमित मालवीय के ट्वीट पर यह दर्शाता है कि बीजेपी संवैधानिक संस्थाओं का सम्मान नहीं करती है।”

कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा, “चुनाव आयोग से पहले अमित मालवीय का चुनाव की तारीख की घोषणा करना चौंकाने वाली बात है।”

सीपीएम के वरिष्ठ नेता सीताराम येचुरी ने कहा, “बीजेपी के आईटी हेड के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए।”

कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा, “अमित मालवीय ने चुनाव आयोग से पहले कर्नाटक चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया, इसका मतलब है कि बीजेपी चुनाव तारीखों के मामले में चुनाव आयोग को हुक्म दे रही है।” उन्होंने कहा कि वह आशा रखते थे कि चुनाव आयोग संविधान के अनुसार काम करता है और जानकारियों को लीक नहीं होने देगा। ऐसी चीजें पहले कभी नहीं हुईं।

शिवसेना सांसद अरविंद सावंत ने कहा कि यह मैच फिक्सिंग की तरह है। हम इस मामले की जांच की मांग करते हैं।

इस पूरे मसले पर बीजेपी के प्रतिनिधिमंडल ने चुनाव आयोग के अधिकारियों से मुलाकात की। मुलाकात के बाद बीजेपी नेता मुख्तार अब्बास नकवी ने पार्टी के आईटी सेल हेड अमित मालवीय का बचाव किया। उन्होंने कहा, “अमित मालवीय का ट्वीट टीवी चैनल्स के आधार पर था। उनका मकसद चुनाव आयोग की अवहेलना करना नहीं था। हम मानते हैं कि अमित मालवीय को ट्वीट नहीं करना चाहिए था।”

लोकप्रिय