अग्निपथ योजना न तो राष्ट्रहित में है, न युवाओं के भविष्य के हित में, इसे तुरंत रद्द करे सरकार: कांग्रेस

कांग्रेस नेता दीपेंद्र हु्ड्डा ने कहा कि हमारी मांग है कि सरकार इस अग्निपथ योजना को तुरंत प्रभाव से वापस ले। अग्निपथ योजना ना तो राष्ट्र के सुरक्षा के हित में है, ना राष्ट्रहित में है ना ही युवाओं के भविष्य के हित में है।

फोटो: विपिन
फोटो: विपिन
user

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस ने गुरुवार को सशस्त्र बलों की भर्ती के लिए केंद्र की अग्निपथ योजना के खिलाफ आंदोलन कर रहे युवाओं को अपना समर्थन दिया, लेकिन उनसे शांति बनाए रखने और हिंसा से दूर रहने का आग्रह भी किया। एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए, पार्टी सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने कहा, "उनकी चिंताओं को समझते हुए, हम अग्निपथ योजना को वापस लेने की युवाओं की मांगों को अपना समर्थन देते हैं। लेकिन साथ ही उनसे शांतिपूर्वक विरोध करने और इसे तत्काल वापस लेने की मांग करना चाहते हैं।"

यह देखते हुए कि यह योजना सशस्त्र बलों का मनोबल गिराएगी और रेजिमेंटल सिस्टम को कमजोर करेगी, कांग्रेस नेता ने कहा कि जब देश पहले से ही चीन और पाकिस्तान से खतरों का सामना कर रहा हो तो, केंद्र को ऐसे प्रयोग करने से बचना चाहिए। उन्होंने कहा कि बार-बार अनुरोध करने के बाद भी मोदी सरकार ने 3 साल से भर्ती नहीं खोली, ऐसे में सरकार को देश के नौजवानों से माफी मांगनी चाहिए। पार्टी ने सरकार से इस नीति को वापस लेने को कहा।


कांग्रेस नेता दीपेंद्र हु्ड्डा ने कहा कि हमारी मांग है कि सरकार इस अग्निपथ योजना को तुरंत प्रभाव से वापस ले। अग्निपथ योजना ना तो राष्ट्र के सुरक्षा के हित में है, ना राष्ट्रहित में है ना ही युवाओं के भविष्य के हित में है।

हालांकि, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि अग्निपथ योजना के तहत सेना में भर्ती जल्द ही शुरू होगी। उन्होंने उम्मीदवारों को अपनी तैयारी शुरू करने की सलाह दी।


इस योजना को देश की रक्षा प्रणाली में शामिल होने और देश की सेवा करने का 'सुनहरा अवसर' बताते हुए, सिंह ने योजना के माध्यम से भर्ती होने वाले पहले बैच के लिए आयु छूट की अनुमति देने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद दिया।

उनकी टिप्पणी बिहार समेत कई अन्य राज्यों में फैले विरोध के बीच आई है। राष्ट्रीय राजधानी समेत सात राज्यों में तीसरे दिन भी अग्निपथ के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी रहा।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia