कर्नाटक के गृहमंत्री पर भड़के माकन, हिजाब विवाद पर बोले- हमारे अंदरूनी मामले पर बोलने का अल-कायदा को हक नहीं

कर्नाटक की एक लड़की की सराहना करने वाले अल-कायदा प्रमुख अयमान अल-जवाहिरी की आलोचना करते हुए वरिष्ठ कांग्रेस नेता अजय माकन ने गुरुवार को कहा कि एक आतंकी संगठन को भारत के आंतरिक मामलों पर टिप्पणी करने का कोई अधिकार नहीं है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

हिजाब पर प्रतिबंध के खिलाफ हालिया विरोध प्रदर्शनों के दौरान 'अल्लाहु अकबर' के नारे लगाने वाली कर्नाटक की एक लड़की की सराहना करने वाले अल-कायदा प्रमुख अयमान अल-जवाहिरी की आलोचना करते हुए वरिष्ठ कांग्रेस नेता अजय माकन ने गुरुवार को कहा कि एक आतंकी संगठन को भारत के आंतरिक मामलों पर टिप्पणी करने का कोई अधिकार नहीं है। मौजूदा विवाद अल-कायदा के वैश्विक आतंकवादी जवाहिरी के नौ मिनट के एक वीडियो से पैदा हुआ, जिसमें उसने कर्नाटक के मांड्या जिले के एक कॉलेज की छात्रा मुस्कान खान की तारीफ की, जिसने कॉलेज परिसर में 'जय श्रीराम' का नारा लगाने वाली भीड़ का मुकाबला करने के लिए 'अल्लाहु अकबर' के नारे लगाए।

'द नोबल वुमन ऑफ इंडिया' शीर्षक वाले वीडियो में जवाहिरी को मुस्कान की प्रशंसा करने के लिए अपनी लिखी एक कविता का पाठ करते सुना जा सकता है। दिल्ली कांग्रेस मुख्यालय में पत्रकारों से बात करते हुए एआईसीसी महासचिव अजय माकन ने कहा, "हम एक बात स्पष्ट करना चाहते हैं। हम हिजाब विवाद के संबंध में अल-कायदा नेता द्वारा दिए गए बयान की निंदा करते हैं।"

उन्होंने कहा, "अल-कायदा एक प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन है और उसे भारत के आंतरिक मामलों पर टिप्पणी करने का कोई हक नहीं है। हम अपने मुद्दों को खुद हल करेंगे और इसमें किसी बाहरी हस्तक्षेप की जरूरत नहीं है।"


माकन ने कर्नाटक के गृहमंत्री अरागा ज्ञानेंद्र के हालिया बयान की भी निंदा की, जिन्होंने दावा किया कि मंगलवार को बेंगलुरु में एक दलित युवक को उर्दू में न बोलने पर चाकू मार दिया गया था। बाद में मंत्री ने अपना बयान वापस ले लिया, क्योंकि पुलिस जांच में साबित हुआ कि यह रोड रेज का मामला है।

माकन ने कहा, "अल-कायदा और कर्नाटक के गृहमंत्री एक ही काम कर रहे हैं। दोनों देश में माहौल खराब करने की कोशिश कर रहे हैं। यहां दक्षिणपंथी तत्व विदेशों में अपने समकक्षों का समर्थन कर रहे हैं।" उन्होंने कहा, "कर्नाटक की अपनी संस्कृति है। देश का यह हिस्सा इसी वजह से विदेशी निवेश आकर्षित कर रहा है। शांतिपूर्ण माहौल को बिगाड़कर राज्य की गरिमा को नष्ट न करें।"

इस बीच, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डी.के. शिवकुमार ने मांग की कि ज्ञानेंद्र को उनके बयानों के लिए बर्खास्त किया जाना चाहिए।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia