अयोध्या विवादः विनय कटियार का विवादित बयान, कोर्ट से पक्ष में फैसला नहीं आया तो तैयार करेंगे बलिदानी दस्ता

बीजेपी सांसद विनय कटियार ने अयोध्या में किसी भी हालत में राम मंदिर निर्माण करने की बात करते हुए कहा है कि अगर कोर्ट का फैसला राम मंदिर के पक्ष में नहीं आया तो वह बलिदान देने की मुहिम की शुरुआत करेंगे।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

अक्सर विवादित बयानों के लिए चर्चा में रहने वाले बीजेपी सांसद विनय कटियार ने एक बार फिर अयोध्या विवाद पर धमकी भरा बयान दिया है। विनय कटियार ने कहा है कि अयोध्या में विवादित जमीन पर मंदिर ही बनेगा और अगर अदालत का फैसला उनके पक्ष में नहीं आया तो वह बलिदानी दस्ता तैयार करेंगे, जो इस काम को अंजाम तक पहुंचाएगा। कटियार ने आगे कहा कि वे इस मामले में अदालत के फैसले का इंतेजार कर रहे हैं और जब तक इसमें कोई फैसला नहीं आता है तब तक बलीदानी दस्ता तैयार करने का कार्यक्रम स्थगित रहेगा।

विनय कटियार ने एक न्यूज चैनल से बात करते हुए कहा कि “रामचंद्र की जमीन हमारी, लेकिन अदालत का फैसला आने तक हम बलिदानी कार्यक्रम को आगे नहीं बढ़ाएंगे, लेकिन हमारी तैयारी जारी रहेगी। अगर हमारे पक्ष में फैसला नहीं हुआ या राम मंदिर निर्माण में रुकावट पैदा की गई तो हम बलिदानी दस्ता तैयार करेंगे।” कटियार ने आगे कहा कि “बलिदानी दस्ता मंदिर निर्माण का काम करेगा और राम मंदिर के लिए समय-समय पर जो भी जरूरत होगी, उसे हम पूरा करते रहेंगे। उन्होंने कहा कि इसमें किसी तरह का कोई शक या अंदेशा नहीं है। ये तैयारी बराबर चलती रहेगी।”

गौरतलब है कि अयोध्या विवाद पर इन दिनों सुप्रीम कोर्ट में आखिरी सुनवाई चल रही है और इस बीच इस मुद्दे पर राजनीतिक दलों के नेताओं के बयानों से ये मामला फिर गर्माता हुआ नजर आ रहा है। आरएसएस, वीएचपी और बीजेपी की अयोध्या में चल रही संयुक्त बैठक में भी इस मुद्दे पर चर्चा होने की खबर है। इस बैठक के बाद वीएचपी के नवनिर्वाचित अध्यक्ष विष्णु सदाशिव कोकजे ने मीडिया से बात करते हुए अयोध्या में राम मंदिर निर्माण पर प्रतिबद्धता जाहिर की। उन्होंने कहा कि मंदिर निर्माण का काम बहुत जल्द शुरू होगा। कोकजे ने कहा, “ये देश आस्था पर चलता है और भगवान सब कराता है। मंदिर का निर्माण जरूर होगा और इस पर हमें पूरा विश्वास है।”

विनय कटियार और कोकजे जैसे नेताओं के बयान से साफ पता चलता है कि राम मंदिर के संबंध में आरएसएस-वीएचपी-बीजेपी में सरगर्मी बढ़ गई है। 2019 का लोकसभा चुनाव करीब है, इसलिए भी इस मुद्दे को हिंदुत्व ताकतें एक बार फिर गर्म करने की कोशिश में हैं।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia