बालासोर ट्रेन हादसा: जयराम रमेश बोले- मोदी सरकार की गलत प्राथमिकताओं के चलते हुआ भीषण हादसा

कांग्रेस ने बालासोर ट्रेन हादसे को लेकर बुधवार को एक बार फिर केंद्र पर निशाना साधते हुए कहा कि जवाबदेही से बचने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव झूठ का सहारा ले रहे हैं।

कांग्रेस नेता जयराम रमेश
कांग्रेस नेता जयराम रमेश
user

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस ने बालासोर ट्रेन हादसे को लेकर बुधवार को एक बार फिर केंद्र पर निशाना साधते हुए कहा कि जवाबदेही से बचने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव झूठ का सहारा ले रहे हैं। कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने ट्विटर पर कहा कि यह स्पष्ट है कि प्रधानमंत्री और रेल मंत्री द्वारा पेश की गई थ्योरी सिर्फ जवाबदेही से बचने के लिए है।

इसको लेकर रेल सुरक्षा आयुक्त ने निष्कर्ष निकाला है कि रेल सुरक्षा से संबंधित प्रक्रियाओं और प्रणालियों में गंभीर कमियों के कारण बालासोर ट्रेन दुर्घटना हुई। जयराम रमेश ने कहा, ''लेकिन कौन सुन रहा है? वंदे भारत ट्रेनों का उद्घाटन लगातार जारी है। मोदी सरकार की गलत प्राथमिकताओं के चलते एक भीषण हादसा हो गया।''


रेल सुरक्षा आयुक्त (सीआरएस) द्वारा अपनी रिपोर्ट में बताई गई खामियों पर प्रकाश डालते हुए, रमेश ने कहा कि ट्रिपल ट्रेन टक्कर के पीछे के कारणों की जांच में सिग्नलिंग और दूरसंचार (एस ऐंड टी) विभाग में कई स्तर पर खामियों को रेखांकित किया गया है। जिसके कारण लगभग 300 लोगों की जान चली गई, और 100 से अधिक घायल हो गए।

उन्‍होंने कहा, लोकेशन बॉक्स में वायरिंग में खराबी है, जिस पर पिछले पांच वर्षों में सिग्नल और टेलीकॉम (एस एंड टी) कर्मचारियों द्वारा ध्यान नहीं दिया गया। जयराम रमेश की यह टिप्पणी ट्रेन दुर्घटना पर सीआरएस रिपोर्ट के एक दिन बाद आई है, जिसमें दुर्घटना के लिए सिग्नलिंग और दूरसंचार विभाग की कई खामियों का दावा किया गया है।


पिछले 25 वर्षों में भारत में यह सबसे बड़ी रेल दुर्घटनाओं में से एक है। 2 जून को चेन्नई जाने वाली कोरोमंडल एक्सप्रेस, हावड़ा जाने वाली एसएमवीटी सुपरफास्ट एक्सप्रेस और एक मालगाड़ी ओडिशा के बालासोर में बहनागा बाजार रेलवे स्टेशन के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गई, जिसके परिणामस्वरूप 292 लोगों की मौत हो गई और 800 से अधिक लोग घायल हो गए। 

रेलवे ने पहले सीआरएस जांच के आदेश दिए और फिर सीबीआई जांच के भी आदेश दिए।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;