मोदी सरकार के खिलाफ दलित-आदिवासी संगठनों का भारत बंद, 13 प्वाइंट रोस्टर रद्द करने समेत कई मांगों पर प्रदर्शन

भारत बंद का असर भी दिखने लगा है। प्रयागराज में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने इलाहाबाद से लखनऊ जाने वाली गंगा गोमती एक्सप्रेस ट्रेन को रोक दिया। इस दौरान ट्रैक पर उतकर प्रदर्शन किया।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

लोकसभा चुनाव से पहले एक बार फिर देश के दलित और आदिवासी संगठन मोदी सरकार के खिलाफ सड़क पर हैं। देश के विश्वविद्लयों में 200 प्वाइंट रोस्टर सिस्टम की जगह 13 प्वाइंट रोस्टर लागू किए जाने के खिलाफ समेत कई मांगों को लेकर आज भारत बंद है। देश भर में दलित-आदिवासी संगठन जगह-जगह प्रदर्शन कर रहे हैं।

समाजवादी पार्टी और आरजेडी समेत कई दलों ने भारत बंद का समर्थन किया है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी इस रोस्टर सिस्टम पर पहले ही सवाल खड़े कर चुके हैं। देश में बंद का असर भी दिखने लगा है। प्रयागराज में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने इलाहाबाद से लखनऊ जाने वाली गंगा गोमती एक्सप्रेस ट्रेन को रोक दिया। इस दौरान ट्रैक पर उतकर प्रदर्शन किया। यह ट्रेन शहर के बैरहना इलाके में रोकी गई।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
प्रयागराज में एसपी के कार्यकर्ताओं ने रोकी ट्रेन

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट कर कहा, “समाजवादी पार्टी बीजेपी सरकार द्वारा शिक्षण संस्थानों में लागू आरक्षण विरोधी 13 प्वाइंट रोस्टर प्रणाली के सख्त विरोध में हैं। दलित, ओबीसी, पिछड़ा, कमजोर, वंचित विरोध केंद्रित ये नीति संविधान की उपेक्षा व अवहेलना है।”

13 प्वाइंट रोस्टर सिस्टम का इस लिए हो रहा विरोध:

13 प्वाइंट रोस्टर सिस्टम के अनुसार, विश्वविद्यालयों के किसी विभाग में जब तक 4 सीट नहीं होगी तब तक पिछड़ी जाति से कोई प्रोफेसर नहीं बन पाएगा। इसी तरह जब तक 7 सीट एक साथ विज्ञप्ति नहीं होंगी तब तक कोई दलित प्रोफेसर नहीं आ पाएगा और 14 सीट नहीं आई तो कोई आदिवासी प्रोफेसर नहीं बन पाएगा। इस रोस्टर का कड़ा विरोध हो रहा है।

इन मुद्दों पर भारत बंद बुलाया गया है:

  • उच्च शिक्षण संस्थानों की नियुक्तियों में 13 प्वाइंट रोस्टर की जगह 200 प्वाइंट रोस्टर लागू करने की मांग
  • शैक्षणिक और सामाजिक रूप से भेदभाव का सामना नहीं करने वाले सवर्णों को दिया जाने वाला 10 फीसदी आरक्षण का प्रावधान रद्द हो
  • देश भर में 24 लाख खाली पदों को भरा जाए
  • 20 लाख आदिवासी परिवारों को वनभूमि से बेदखल करने के सुप्रीम कोर्ट के आदेश को पूरी तरह निरस्त करने के लिए अध्यादेश लाया जाए
  • पिछले साल 2 अप्रैल के भारत बंद के दौरान बंद समर्थकों पर दर्ज मुकदमे वापस लिए जाएं

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 05 Mar 2019, 10:37 AM