साल भर के भीतर BJP के हाथ से निकला 5वां राज्य, एक साल में 212 विधानसभा सीटों पर हुई हार, झारखंड में भी शिकस्त!

आंकड़ों को देखें तो जुलाई 2014 में बीजेपी अध्यक्ष की गद्दी पर अमित शाह विराजमान हुए थे, लेकिन अमित शाह के बीजेपी अध्यक्ष बनने के बाद से अब तक 31 विधान सभा चुनाव (मौजूदा झारखंड चुनाव छोड़कर) हो चुके हैं, जिनमें से बीजेपी ने 49 फीसदी राज्यों में अपनी सरकार गंवाई है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

झारखंड विधानसभा चुनाव की जारी मतगणना के शुरुआती रुझानों ने साफ कर दिया है कि बीजेपी यहां पर सत्ता गंवा चुकी है। नतीजों के रुझान यह बता रही है कि झारखंड के लोगों ने महागठबंधन पर भरोसा जताया है। अब ये नतीजे बीजेपी को बेचैन करने वाली है और हो भी क्यों नहीं पिछले एक साल में झारखंड पांचवां बड़ा राज्य है, जहां से बीजेपी की सत्ता से दूर हुई है। जनता की नब्ज को समझने का दंभ भरने का दावा करने वाली बीजेपी, अमित शाह और पीएम मोदी के लिए अब चिंता की बात है। क्योंकि 5 सालों के अंदर अमित शाह को 50 फीसदी राज्यों में हार का स्वाद चखना पड़ा है।

हाल ही के दिनों में महाराष्ट्र और हरियाणा में चुनाव हुए थे। लेकिन यहां पर भी बीजेपी के हाथों में महाराष्ट्र निकल गई। वहीं हाल हरियाणा में भी देखने को मिला। हरियाणा में भी लोगों ने बीजेपी पर भरोसा कम दिखाया था। यहां पर बीजेपी बहुमत से काफी दूर थी, यहां गनमीत सिर्फ इतनी रही कि नई नवेली जेजेपी ने बीजेपी को समर्थन किया और बीजेपी की सरकार गिरते-पड़ते बन गई।


आंकड़ों को देखें तो जुलाई 2014 में बीजेपी अध्यक्ष की गद्दी पर अमित शाह विराजमान हुए थे, लेकिन अमित शाह के बीजेपी अध्यक्ष बनने के बाद से अब तक 31 विधान सभा चुनाव (मौजूदा झारखंड चुनाव छोड़कर) हो चुके हैं, जिनमें से बीजेपी ने 49 फीसदी राज्यों में अपनी सरकार गंवाई है।

साल 2014 में बीजेपी का प्रदर्शन अच्छा रहा, लेकिन साल 2015 में आते आते बीजेपी का प्रदर्शन जीरो हो गया। 2014 के दिसंबर में झारखंड और जम्मू-कश्मीर में चुनाव हुए थे। दोनों ही राज्यों में बीजेपी ने सरकार बनाई थी। लेकिन बाद में जम्मू-कश्मीर में गठबंधन की सरकार गिर गई।

2016: इस साल में पांच राज्यों में चुनाव हुए और साल 2014 में बीजेपी को 4 राज्यों में हार देखना पड़ा। तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, केरल, पुद्दुचेरी और असम में चुनाव हुए थे, लेकिन बीजेपी 4 राज्यों में से सिर्फ असम में जीत हासिल कर सकी और वहां सरकार बन पाई।

2017: बीजेपी को इस साल थोड़ी राहत मिली। इस साल के शुरुआत में फरवरी-मार्च में 7 राज्यों में चुनाव हुए। बीजेपी ने इनमें से 6 राज्यों में सरकार बनाई। सिर्फ पंजाब में बीजेपी को सत्ता गंवानी पड़ी थी।

2018: इस साल फिर बीजेपी का प्रदर्शन में गिरावट हुई। इस साल 9 राज्यों में चुनाव हुए लेकिन बीजेपी सिर्फ 4 राज्यों में सरकार बना पाई। इन आंकड़ों के मुताबिक, बीजेपी के प्रदर्शन में 55 फीसदी गिरावट हो गई। इस साल कर्नाटक, राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, तेलंगाना, त्रिपुरा, मेघालय, नगालैंड और मिजोरम में चुनाव हुए थे। बीजेपी के हाथों से हिन्दी पट्टी के तीन बड़े राज्य हाथ से निकल गए। दिसंबर में राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में चुनाव हुए थे और तीनों जगहों पर बीजेपी को हार का स्वाद चखना पड़ा। आलम यह रहा है कि बीजेपी ने साल भर में कुल 197 सीटें गंवा दी। इनके अलावा बीजेपी ने हरियाणा में 7, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में चार-चार विधानसभा सीटें भी गंवाई हैं।


2019: इस साल 6 राज्यों में चुनाव हुए। इनमें से 3 राज्यों में बीजेपी सरकार बनाने में कामयाब रही। हरियाणा में जेजेपी और सिक्किम में सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा के साथ गंठबंधन कर सरकार बना पाई। लेकिन महाराष्ट्र की सत्ता शिवसेना से मतभेदों के चलते गंवानी पड़ गई। इसके अलावा आंध्र प्रदेश, अरुणाचल प्रदेश, ओडिशा, सिक्कम में चुनाव हुए। आंध्र प्रदेश में बीजेपी का खाता तक नहीं खुल सका और उसे चार सीटों का नुकसान उठाना पड़ा।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 23 Dec 2019, 4:13 PM
/* */