BJP सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने कोर्ट के आदेश को दिखाया ठेंगा! कहा- नवरात्रों में देर रात तक बजेगा डीजे-लाउडस्पीकर

कोर्ट के आदेश की अवमानना करते हुए प्रज्ञा ठाकुर ने कहा, “नवरात्र पर डीजे और लाउडस्पीकर देर तक बजाने को लेकर सारे नियम क्या सिर्फ हिंदुओं के लिए हैं। हम इसे नहीं मानेंगे और इस नवरात्र पर हम लाउडस्पीकर-डीजे सब चालएंगे। कोई गाइडलाइंस नहीं है।”

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

मध्य प्रदेश के भोपाल से बीजेपी सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर एक बार फिर से अपने विवादित बयान को लेकर चर्चा में हैं। इस बार प्रज्ञा ठाकुर ने सीधा कोर्ट के आदेश को ही मानने से इनकार कर दिया। नवरात्रों के दौरान डीजे और लाउड स्पीकर ना बजाए जाने के कोर्ट के आदेश की अवमानना करते हुए प्रज्ञा ने कहा, “नवरात्र पर लाउडस्पीकर और डीजे देर तक बजाने को लेकर सारे नियम क्या सिर्फ हिंदुओं के लिए हैं। हम इसे नहीं मानेंगे और इस नवरात्र पर हम लाउडस्पीकर-डीजे सब चालएंगे। कोई गाइडलाइंस नहीं है।”

दरअसल भोपाल में पत्रकारों ने बात चीत के दौरान नवरात्रों में लाउड स्पीकर और डीजे बजाए जाने को लेकर बीजेपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर को जब कोर्ट के फैसले की याद दिलाई तो उन्होंने कहा, ‘हमें कोर्ट का फैसला मंजूर नहीं है।’

बता दें कि साध्वी प्रज्ञा ठाकुर इससे पहले भी अपने बयानों को लेकर विवादों में फंस चुकी हैं। इससे पहले जहां एक तरफ पीएम मोदी और बीजेपी के अन्य बड़े नेता स्वच्छ भारत अभियान को बढ़ावा देने के लिए खुद सड़कों पर झाड़ू लगाते दिख रहे थे, उसी दौरान अपनी ही पार्टी की विचारधारा को ठेंगा दिखाते हुए इंदौर में लोगों से बात चीत करते हुए प्रज्ञा ने कहा था कि हम गलियों में झाड़ू लगाने या नालियों की सफाई करने के लिए सांसद नहीं बने हैं।

इसके अलावा अयोध्या में विवादित ढांचे को गिराने के बाद प्रज्ञा ठाकुर ने कहा था, ‘हमें बाबरी मस्जिद गिराए जाने का जरा भी अफसोस नहीं है। ढांचा गिराने पर तो हम गर्व करते हैं। हमारे प्रभु रामजी के मंदिर पर अपशिष्ट पदार्थ थे, जिन्हें हमने हटा दिया।’

लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान साध्वी प्रज्ञा ने नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताते हुए एक बयान दिया था, जिसके बाद उनकी बहुत किरकिरी हुई थीृ। साध्वी के इस बयान के बाद बीजेपी ने उन्हें तत्काल माफ़ी मांगने को कहा था। इसके अलावा मुंबई हमलों में शहीद हुए एटीएस चीफ हेमंत करकरे को लेकर भी साध्वी प्रज्ञा ने अपमानित शब्दों का इस्तेमाल किया था।

लोकप्रिय