'पुडुचेरी में सत्ता हथियाने के लिए पिछले दरवाजे से घुसने की कोशिश कर रही बीजेपी, ये स्वस्थ लोकतंत्र के लिए अच्छा नहीं'

रविवार को रंगासामी मंत्रिमंडल के विस्तार के साथ, राजनीतिक और सामाजिक हलकों में मिलियन-डॉलर का सवाल यह है कि क्या बीजेपी गठबंधन को परेशान करेगी और ऊपरी हाथ हासिल करने की कोशिश करेगी या क्या वह जूनियर पार्टनर के रूप में संतुष्ट होगी।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

आईएएनएस

पुडुचेरी मंत्रिमंडल के मंत्री रविवार को शपथ लेंगे, जिसमें बीजेपी के दो मंत्री और अखिल भारतीय एनआर कांग्रेस (एआईएनआरसी) के तीन मंत्री , मुख्यमंत्री एन. रंगासामी के 7 मई को पदभार ग्रहण करने के 51 दिन बाद कैबिनेट में शामिल होंगे। विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने 10 सीटों पर चुनाव लड़ा था और पार्टी ने छह सीटें जीतीं। यह पहली बार था जब भगवा पार्टी ने केंद्रशासित प्रदेश में अपना खाता खोला। बीजेपी एआईएनआरसी के नेतृत्व वाली सरकार में जूनियर पार्टनर के तौर पर सत्ता साझा कर रही है।

रंगासामी के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण के बाद, वह कोरोना संक्रमित हुए और उन्हें चेन्नई के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। जब मुख्यमंत्री अस्पताल में थे, बीजेपी ने अपने तीन नेताओं को विधायक के रूप में नामित किया और इस प्रकार 33 सदस्यीय सदन में पार्टी की संख्या नौ हो गई।

2021 के चुनावों में, रिकॉर्ड छह निर्दलीय जीते, और इसमें से तीन विधायकों ने बीजेपी को अपना समर्थन दिया। इसने कई सिद्धांतों को जन्म दिया कि बीजेपी अधिक मंत्री पद पाने के लिए एआईएनआरसी के साथ सौदेबाजी के खेल में प्रवेश करने की कोशिश कर रही थी। उसकी कोशिश है कि यदि संभव हो तो वह मंत्रिमंडल में ऊपरी स्थान हासिल करें।


रंगासामी, जो चेन्नई के अस्पताल में स्वास्थ्य लाभ ले रहे थे, उन्होंने इस दौरान चुप्पी साधे रखी और पुडुचेरी के बीजेपी नेतृत्व और यहां तक कि केंद्रशासित प्रदेश के पार्टी प्रभारी राजीव चंद्रशेखर के साथ बातचीत करना बंद कर दिया। बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व को रंगासामी के साथ बीजेपी के राज्य नेतृत्व के साथ-साथ चंद्रशेखर के साथ बातचीच शुरू करवाने के लिए काफी अनुनय-विनय करना पड़ा।

मुख्यमंत्री ने अनिच्छा से सहमति व्यक्त की और इससे राज्य बीजेपी और रंगासामी के बीच की खाई बढ़ गई। इस बीच, तमिलनाडु के जल संसाधन मंत्री और द्रमुक के वरिष्ठ नेता एस दुरईमुरुगन ने खुले तौर पर कहा कि बीजेपी पिछले दरवाजे से सत्ता पर कब्जा करने की कोशिश कर रही है।

के जीवनानंदन, राजनीतिक पर्यवेक्षक और माहे विकास मंच के निदेशक ने कहा, "देश भर में बीजेपी का ट्रैक रिकॉर्ड पुडुचेरी में हम जैसा देख रहे हैं वैसा ही है। इसने कांग्रेस पार्टी के कुछ वरिष्ठ नेताओं जैसे ए नामसिवयम और जॉन कुमार को अपने साथ कर लिया। इसी तरह, कई वरिष्ठ स्थानीय नेता बीजेपी में शामिल हो गए।"

उन्होंने कहा, "हालांकि बीजेपी अभी भी देश के इस हिस्से में एक गैर-इकाई है और वे पिछले दरवाजे से प्रवेश करने की कोशिश कर रहे हैं, जो एक स्वस्थ लोकतंत्र के लिए अच्छा नहीं है। रंगासामी को अपने क्षेत्र की ठीक से रक्षा करनी होगी अन्यथा बीजेपी बहुमत हासिल करने के लिए काम करेगी और पिछले दरवाजे से मुख्यमंत्री का पद पाने का प्रयास करेगी।"


रविवार को रंगासामी मंत्रिमंडल के विस्तार के साथ, राजनीतिक और सामाजिक हलकों में मिलियन-डॉलर का सवाल यह है कि क्या बीजेपी गठबंधन को परेशान करेगी और ऊपरी हाथ हासिल करने की कोशिश करेगी या क्या वह जूनियर पार्टनर के रूप में संतुष्ट होगी।

देश भर में बीजेपी द्वारा अपनाई गई राजनीतिक लाइन इस बात का स्पष्ट संकेत है कि भगवा पार्टी प्रयोग के खिलाफ नहीं है और वह मुख्यमंत्री पद पाने के लिए कोशिश कर सकती है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia