उपचुनावः लोकसभा की 4 सीटों के नतीजे, जानें कौन, कहां से जीता

देश की 4 लोकसभा सीटों पर हुए उपचुनाव के नतीजे लगभग साफ हो चुके हैं। इस उपचुनाव में सब की नजरें उत्तर प्रदेश की कैराना और महाराष्ट्र की पालघर सीट पर टिकी हुई थीं। नतीजों में जहां कैराना में बीजेपी को हार मिली है, वहीं पालघर पर उसका कब्जा बरकरार रहा।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

देश के दस राज्यों की 4 लोकसभा और 10 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव के नतीजे आ गये हैं। इस उपचुनाव में सभी की निगाहें उत्तर प्रदेश की कैराना और महाराष्ट्र की पालघर लोकसभा सीट पर टिकी हुई थीं। कैराना में बीजेपी को बड़ी हार मिली है तो वहीं पालघर सीट पर उसने अपनी ही साथी शिवसेना को हरा दिया है।

इन उपचुनावों को 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले एक बड़े प्रयोग के तौर पर देखा जा रहा था। कई सीटों पर विपक्ष ने बीजेपी के खिलाफ एकजुट होकर चुनाव लड़ा था। 4 लोकसभा सीटों पर किस पार्टी को कहां जीत हासिल हुई है, आइये डालते हैं इस पर एक नजर।

कैराना ( उत्तर प्रदेश): कैराना लोकसभा सीट पर आरएलडी प्रत्याशी तबस्सुम हसन ने बीजेपी की मृगांका सिंह को हरा दिया है। उन्होंने बीजेपी प्रत्याशी को 50,000 से ज्यादा वोटों से हराया है। कैराना उपचुनाव पर पूरे देश की निगाहें टिकी हुई थीं, क्योंकि बीजेपी के खिलाफ विपक्ष ने एकजुट होकर यहां चुनाव लड़ा था। आरएलडी के टिकट पर चुनाव लड़ रहीं तबस्सुम हसन को एसपी ने अपना समर्थन दिया था, तो कांग्रेस और बीएसपी ने अपना कोई उम्मीदवार नहीं दिया था।

भंडारा-गोंदिया (महाराष्ट्र): महाराष्ट्र के भंडारा-गोंदिया सीट पर एनसीपी के मधुकरराव कुकड़े ने बीजेपी के हमंत पटले को हराकर जीत हासिल की है। यहां कांग्रेस ने एनसीपी को समर्थन दिया था। यह सीट पहले बीजेपी के पास थी। यहां से बीजेपी सांसद रहे नाना पटोले ने केंद्र की मोदी सरकार की नीतियों के खिलाफ पार्टी और लोकसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था।

पालघर (महाराष्ट्र): पालघर सीट पर बीजेपी के राजेंद्र गावित ढेडिया ने शिवसेना के श्रीनिवास वांगा को करीब 29 हजार वोटों से हरा कर जीत हासिल कर ली है। यह सीट पहले भी बीजेपी के पास थी। शिवसेना ने यहां पर दिवंगत बीजेपी सांसद चिंतामन वांगा के बेटे श्रीनिवास वांगा को अपना उम्मीदवार बनाया था।

नगालैंड (नगालैंड): नगालैंड की एकमात्र लोकसभा सीट पर बीजेपी की सहयोगी एनडीपीपी और पीडीए के साझा उम्मीदवार तोखेहो येपथेमी एनपीएफ के सी अपोक जमीर से आगे चल रहे हैं। यहां कांग्रेस पार्टी जमीर का समर्थन कर रही है। ऐसे में नगालैंड के उपचुनाव में कांग्रेस और बीजेपी दोनों पार्टियां सीधे तौर पर तो मैदान में नहीं हैं, लेकिन दोनों अपने-अपने सहयोगी दलों के समर्थन में जरूर खड़ी हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia