सीबीएसई ने 10वीं परीक्षा को लेकर किया बड़ा बदलाव, जानिए डराने वाले गणित के लिए कौन से मिलेंगे दो विकल्प? 

सीबीएसई बोर्ड 2020 से 10वीं कक्षा की परीक्षा में दो तरह तरह के गणित के पेपर बनाएगा। गणित के पेपर के दो लेवल होंगे- बेसिक और स्टैंडर्ड। इसके लिए सीबीएसई ने सर्कुलर जारी कर दिया है।

नवजीवन डेस्क

सीबीएसई ने साल 2020 में 10वीं की परीक्षा को लेकर बड़े बदलाव किए हैं जिसके लिए बोर्ड ने सर्कुलर जारी किया है। सीबीएसई ने बताया कि 2019-2020 सत्र से 10वीं कक्षा में गणित विषय के दो स्तरों की पढ़ाई शुरू की जाएगी और इसकी परीक्षा भी दो स्तर पर होगी। हालांकि नौवीं कक्षा में कोई ऐसा बदलाव नहीं किया जाएगा।

सर्कुलर के मुताबिक, 2020 में छात्रों को परीक्षा देने के लिए दो तरह के, एक बेसिक गणित और एक स्टैंडर्ड गणित की पढ़ाई करनी होगी। 2019-20 सत्र में दसवीं के छात्रों को गणित विषय के स्तरों में से चुनने का मौका मिलेगा। यह चुनाव अक्टूबर या नवंबर महीने में किया जा सकता है।पहला दसवीं गणित का लेवल मौजूदा लेवल ही होगा और मौजूदा लेवल को मैथमेटिक्स स्टैंडर्ड लेवल कहा जाएगा जबकि आसान लेवल को मैथमेटिक्स बेसिक कहा जाएगा।

सीबीएसई ने 10वीं परीक्षा को लेकर  किया बड़ा बदलाव, जानिए डराने वाले गणित के लिए कौन से मिलेंगे दो विकल्प? 

साल 2020 में दसवीं की परीक्षा दे रहे छात्रों के लिए बेसिक और स्टैंडर्ड मैथ्स के बीच चुनाव करने का अधिकार होगा। फॉर्म भरने के समय छात्र अपनी तैयारियों और आगे की प्लानिंग के आधार पर दोनों में से किसी एक का चयन कर सकेंगे।

सर्कुलर के आधार पर आसान शब्दों में समझा जाए तो जो छात्र 10वीं में बेसिक गणित लेकर सफल होंगे, उन्हें 11वीं में गणित लेने का अधिकार नहीं होगा। लेकिन अगर उन्हें आगे गणित से पढ़ाई करने है तो उन्हें कंपार्टमेंट में स्टैंडर्ड मैथ्स की परीक्षा देनी होगी। दूसरी ओर जो छात्र स्टैंडर्ड गणित लिए हुए परीक्षा में पास हो कर ग्यारहवीं में गणित ले सकेंगे। स्टैंडर्ड में फेल छात्र बेसिक की परीक्षा देकर भी पास हो सकते हैं। लेकिन बेसिक मैथ्स में फेल छात्र केवल बेसिक में ही कंपार्टमेंटल परीक्षा दे सकेंगे।

सीबीएसई ने 10वीं परीक्षा को लेकर  किया बड़ा बदलाव, जानिए डराने वाले गणित के लिए कौन से मिलेंगे दो विकल्प? 

बता दें कि वार्षिक परीक्षा के पहले कक्षाएं, सिलेबस और यहां तक कि इंटरनल परीक्षाएं एक समान होंगी। बोर्ड के द्वारा उठाया गया ये कदम सीबीएसई के छात्रों के लिए बेहद अहम माना जा रहा है। इससे बच्चों के परफॉर्मेंस का बोझ कम होगा।

Published: 11 Jan 2019, 8:25 AM
लोकप्रिय