छत्तीसगढ़ः राहुल गांधी के हाथों कांग्रेस सरकार का एक और वादा पूरा, 11 साल बाद आदिवासी किसानों की जमीन वापस

एकदिवसीय दौरे पर शनिवार को छत्तीसगढ़ के बस्तर पहुंचे राहुल गांधी के हाथों राज्य की कांग्रेस सरकार ने अपना एक और वादा पूरा किया। राज्य की भूपेश बघेल के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार ने लगभग 11 साल बाद इलाके के आदिवासी किसानों की जमीन उन्हें लौटा दी।

फोटोः <a href="https://twitter.com/INCIndia">@<b>INCIndia</b></a>
फोटोः <a href="https://twitter.com/INCIndia">@<b>INCIndia</b></a>

आसिफ एस खान

छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद शनिवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पहली बार राज्य के दौरे पर बस्तर पहुंचे। इस दौरान राज्य की कांग्रेस सरकार ने अपना एक और वादा पूरा कर राज्य के लोगों की भलाई की अपनी नीयत को साफ कर दिया। राज्य की भूपेश बघेल सरकार ने बस्तर में राहुल गांधी के हाथों 1700 किसानों की जमीन उन्हें वापस लौटाकर कांग्रेस का एक और बड़ा वादा पूरा कर दिया। खुद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपने हाथों से 4359 एकड़ जमीन के दस्तावेज किसानों को सौंपे। इस दौरान सीएम भूपेश बघेल और उनके मंत्रिमंडल के सदस्य भी मौजूद रहे।

किसानों को उनकी जमीन का अधिकार वापस दिलाने के बाद राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा, “कांग्रेस सरकार ने एक और वादा पूरा किया। आज बस्तर के किसानों के चेहरे पर चमक है। 11 साल बाद उन्हें जमीन वापस मिल रही है। आदिवासी किसानों से ये जमीन छीनकर ‘साहेब के मित्रों’ के लिए ‘लैंड बैंक’ में रखी गई थी। इस फैसले में आदिवासी किसानों की आवाज है। मैं इसका स्वागत करता हूं।”

इससे पहले छत्तीसगढ़ पहुंचने पर बस्तर के धुरागांव में विशाल आदिवासी कृषक अधिकार सम्मेलन को संबोधित करते हुए सबसे पहले राहुल गांधी जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में शहीद हुए जवानों को याद किया और उन्हें श्रद्धांजलि दी। राहुल गांधी ने शहीदों के परिजनो के प्रति अपनी संवेदना प्रकट करते हुए कहा कि हम सब शहीदों को याद करते हैं और उनके परिवार को अपनी संवेदना देते हैं।

इसके बाद सभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि बस्तर की जनता ने कहा था कि टाटा प्‍लांट के लिए जमीन ली गई थी और 10 साल में एक काम नहीं हुआ इसलिए अपनी जमीन वापस चाहते हैं। उन्होंने कहा, “मैंने आपसे कहा कि जमीन अधिग्रहण कानून के तहत किसान से, आदिवासी से उसकी जमीन ली जाएगी तो उससे पूछ कर ली जाएगी। अगर किसान कहेगा तो उसकी जमीन मार्केट रेट से चार गुना दर पर ली जाएगी। जल, जंगल और जमीन का हक आपका है। जो उगेगा वो आपका है।”

छत्तीसगढ़ः राहुल गांधी के हाथों कांग्रेस सरकार का एक और वादा पूरा, 11 साल बाद आदिवासी किसानों की जमीन वापस

कांग्रेस किसानों का कर्ज माफ करने वाली पार्टी है

राहुल गांधी ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ में फूड प्रोसेसिंग प्लांट का जाल बिछाया जाएगा। कांग्रेस ने एक-एक कर कम समय में कई वादे पूरे किए। उन्होंने अनिल अंबानी और नीरव मोदी का जिक्र करते कहा, जब चौकीदार कारोबारियों का कर्ज माफ कर सकता है तो फिर किसानों का क्यों नहीं? कांग्रेस किसानों का कर्ज माफ करने वाली पार्टी है। कांग्रेस की सरकार बनने के 6 घंटे के भीतर ही किसानों का कर्ज माफ कर दिया गया। पीएम मोदी ने अनिल अंबानी का 45000 करोड रुपए माफ कर दिया और किसानों के लिए बजट में 17 रुपए देने का ऐलान किया और इस बात पर बीजेपी के सांसद ताली बजा रहे थे।” इस दौरान राहुल गांधी ने जैसे ही कहा कि चौकीदार तो भीड़ ने एक सुर में जवाब दिया कि ‘चोर है’।

किसान हो या उद्योगपति, देश में सबके लिए एक जैसा कानून हो

राहुल गांधी ने कहा कि छत्तीसगढ़ के छोटे व्यापारियों के साथ ही पूरे देश के छोटे व्यापारियों से कहना चाहता हूं कि 2019 में 5 अलग-अलग टैक्स वाले गब्बर सिंह टैक्स को हम खत्म कर देंगे और 1 सरल टैक्स वाला जीएसटी देंगे। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि हिंदुस्तान में सबके लिए कानून एक जैसा होना चाहिए, चाहे वो किसान हो चाहे उद्योगपति। उन्होंने कहा, “किसानों को धान का 2500 रुपए देने के लिए रमन सरकार के पास पैसे नहीं थे, लेकिन कांग्रेस की सरकार आने के बाद हमने अपने वादे को पूरा किया।”

लोकप्रिय