देश

इथोपिया हादसे के बाद संकट में बोइंग 737, कई देशों ने लगाई रोक, भारत में भी नए सिरे से होगी सुरक्षा जांच

इथियोपियन एयरलाइंस हादसे के बाद बोइंग 737 विमान को लेकर सवाल उठ रहे हैं। बोइंग 737 मैक्स 8 विमान पिछले 6 महीने में दूसरी बार हादसे का शिकार हुआ है जो पूरी दुनिया के देशों के लिए चिंता का विषय बना हुआ है। 

फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

रविवार को इथोपियन एयरलाइन्स का बोइंग 737 मैक्स 8 विमान उड़ान भरने के चंद मिनटों में ही क्रैश हो गया था। इस विमान में चीन, ब्रिटेन, अमेरिका, फ़्रांस और भारत के 149 यात्री मौजूद थे। दुर्घटना में विमान के क्रू मेम्बर्स सहित सभी 157 लोगों की मौत हो गयी थी। मरने वालों में 4 भारतीय भी हैं। इस हादसे को देखते हुए दुनिया भर में बोईंग 737 मैक्स का संचालन करने वाले सभी देशों ने इसकी उड़ान पर रोक लगा दी है।

इथोपियन एयरलाइन्स के फ्लीट में आठ बोइंग विमान मौजूद हैं, जिनमें से 5 को इस्तेमाल किया जा रहा था। फिलहाल इथोपियन ने अपने सभी बोइंग विमानों पर अगले निर्देश तक प्रतिबन्ध लगा दिया है। इस विमान हादसे में चीन के 8 लोगों के मौत हुई है। चीन की सभी सरकारी एयरलाइन्स कंपनियों ने अपने सभी 96 विमानों की उड़ानों पर रोक लगा दी है। फिलहाल चीन की सरकारी एयरलाइन्स के पास 76 बोइंग 737 विमान हैं। चीन के नागरिक विमानन प्रशासन ने अपने आदेश में कहा है, "सुरक्षा पर जोखिम में जीरो टॉलरेंस के सिद्धांत के आधार पर प्रबंधन ने यह फैसला किया है." चीन के विमानन प्रशासन ने यह भी कहा है कि वह अमेरिका के संघीय विमान प्रशासन और बोइंग कंपनी से चर्चा के बाद इस बारे में और नोटिस जारी करेगा।

चीन के अलावा और भी कई देशों ने बोइंग विमान की उड़ानों पर फिलहाल पूरी तरह से रोक लगा दी है। कायमान एयरलाइंस ने भी अपने दो बोइंग 737 मैक्स 8 विमान के उड़ान पर रोक लगा दी है।

भारत में जेट एयरवेज और स्पाइस जेट एयरलाइंस भी इन विमानों का उपयोग करते हैं। मीडिया रिपोर्टस के अनुसार नागरिक विमान प्राधिकरण ने इन एयरलाइनों से इस विमान के बारे में जानकारी मांगी है। आशंका जताई जा रही है कि भारत में भी इन विमानों के उड़ान पर तात्कालिक रोक लगाई जा सकती है।

बता दें कि साल 2018 में इंडोनेशिया के लायन जेट एयरलाइन्स का विमान भी उड़ान भरने के कुछ देर बाद हादसे का शिकार हुआ था। इस हादसे में भी इथोपियन एयरलाइन्स विमान हादसे जैसी समानताएं देखने को मिलती हैं। हालांकि विमान कंपनियों के अधिकारियों ने अभी हादसे की किसी भी वजह की पुष्टि नहीं की है। इथोपियन एयरलाइन्स और इंडोनेशिया दोनों ही सुरक्षा के लिहाज से सक्षम मानी जाती हैं।

बोईंग 737 मैक्स 8

एयरलाइंस उद्योग के लिए पूरी दुनिया में बोइंग 737 विमान हमेशा से ही अपनी कसौटियों पर खरा उतरा है। ईंधन की खपत को कम करने के लिए कंपनी ने इसके नए संस्करण मैक्स 8 का निर्माण किया। अब तक बोइंग लगभग 350 मैक्स विमानों का व्यापार कर चुकी है। इसके अलावा कंपनी के पास करीब 5000 मैक्स 8 विमानों का ऑर्डर है। बोइंग का मुख्यालय शिकागो में है।

बोइंग 737 मैक्स 8 का इंजन सीएफएम इंटरनेशनल बनाती है जो फ्रांस की साफ्रान एयरक्राफ्ट इंजिन और अमेरिकी की जीई एविएशन का संयुक्त उपक्रम है। यह विमान बोइंग कंपनी का सबसे सफल विमान माना जाता ह। कंपनी अब तक बोइंग 737 सीरीज के 10 हजार से ज्यादा विमान बना चुकी है।

बोइंग 737 मैक्स 8 विमान पिछले 6 महीने में दूसरी बार हादसे का शिकार हुआ है जो पूरी दुनिया के देशों के लिए चिंता का विषय बना हुआ है। इथियोपियन एयरलाइंस के चीफ एग्जीक्यूटिव टेवोल्डे गेबेरमारियम ने अदीस अबाबा में पत्रकारों से कहा, "पायलट ने कुछ मुश्किलों की बात की थी और कहा था कि वह लौटना चाहता है। उसे अनुमति मिल गई थी।"

इथोपियन एयरलाइन्स के बाद अब दक्षिण कोरियन एयरलाइन्स ने अभी अपने सभी बोइंग 737 विमानों की उड़न पर रोक लगाई है।

लोकप्रिय