CM केजरीवाल ने किया नई बंदिशों का ऐलान, कहा- सख्त होंगी पाबंदियां, दिल्ली में लगने वाला है लॉकडाउन?

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार ऐलान किया कि शहर में कोरोना के बढ़ते मामलों के मद्देनजर कोरोना पाबंदियों को और सख्त किया जाएगा।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

राजधानी दिल्ली में कोरोना के नए मामलों के साथ-साथ ओमिक्रॉन के नए केसों में भी भारी उछाल देखने को मिल रहा है। कुछ दिन पहले तक दिल्ली में हर दिन 100 से भी कम केस सामने आ रहे थे, लेकिन कुछ ही दिनों में ये आंकड़ा 400 के करीब पहुंच गया है। वहीं ओमिक्रॉन के केस भी लगातार बढ़ रहे हैं। कहा जा रहा है कि अगर स्थिति में जल्द सुधार नहीं आए तो राजधानी में लॉकडाउन लगाने की भी जरूरत पड़ सकती है। हालांकि अभी तक ऐसे कोई संकेत नहीं दिख रहे हैं। बता दें कि देशभर में ओमिक्रॉन के कुल 653 मामले सामने आए हैं। इसमें से 165 सिर्फ दिल्ली में हैं। दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने जुलाई 2021 में कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए GRAP तैयार किया था। इसके तहत दिल्ली में कब लॉकडाउन लगेगा, कब क्या बंद रहेगा और कब क्या खुलेगा, इसे लेकर चीजें स्पष्ट की गई थीं।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार ऐलान किया कि शहर में कोरोना के बढ़ते मामलों के मद्देनजर कोरोना पाबंदियों को और सख्त किया जाएगा। दिल्ली में ताजा हालात को देखते हुए केजरीवाल ने येलो अलर्ट का ऐलान कर दिया है। जिसके अंदर कई पाबंदियां लागू होंगी। केजरीवाल ने कहा, पिछले 2-3 दिनों से कोविड के पॉजिटिव मामलों में 0.5% की बढ़ोतरी देखने को मिल रही है। इसलिए 'येलो अलर्ट' लागू करने का निर्णय लिया गया है। कुछ चीज़ों पर पाबंदियां लगाई जा रही हैं। इसके विस्तृत आदेश बहुत ज़ल्द आपके सामने आ जाएंगे।

दिल्ली के सीएम ने आगे कहा कि फिलहाल चिंता करने की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा, दिल्ली में पिछले दिनों से कोरोना मामले तेज़ी से बढ़ रहे हैं। हालांकि अधिकतर मामलों में ना तो अस्पताल जाने की ज़रूरत पड़ी रही है ना ऑक्सीजन, ना ही ICU और वेंटिलेटर की ज़रुरत पड़ रही है। ओमिक्रोन संक्रमित लोग घर में ठीक हो रहे हैं। चिंता की ज़रुरत नहीं है।


गौरतलब है कि ‘येलो' अलर्ट तब जारी किया जाता है जब कोविड संक्रमण दर लगातार दो दिनों तक 0.5 प्रतिशत से अधिक रहती है। इसमें रात्रि कर्फ्यू लगाना, स्कूलों तथा कॉलेजों को बंद करना, गैर आवश्यक सामान की दुकानों को सम-विषम आधार पर खोलना और मेट्रो ट्रेनों तथा सार्वजनिक परिवहन की बसों में यात्रियों के बैठने की क्षमता आधी करने जैसे उपाय आते हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 28 Dec 2021, 2:05 PM