कांग्रेस का सवाल- मोदी जी ताली, थाली, दिए जलाना तो ठीक, लेकिन डॉक्टरों को PPE और गरीबों को आर्थिक मदद कब मिलेगी?

खेड़ा ने सवाल किया, ‘’अपने कहा था कि ताली और थाली बजाओ, सबने बजाई। अब आप कह रहे हैं कि दीए, मोमबत्ती और टार्च जलाओ, वो भी जल दिया जाएगा। लेकिन यह बताइए कि जिन चिकित्सकर्मियों के लिए अपने ताली और थाली बजवाई थी उन्हें निजी सुरक्षा उपकरण क्यों नहीं मिल रहे हैं? इसकी जिम्मेदारी किसकी है?’’

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कोरोना वायरस के महासंकट और देश में लागू 21 दिनों के लॉकडाउन के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों से दीया जलाने की अपील की है। इस अपील पर कांग्रेस पार्टी ने पीएम मोदी से कई सवाल किए हैं। कांग्रेस का कहना है कि इस वक्त देश की जरूरत डॉक्टरों की सुरक्षा, गरीबों को आर्थिक मदद पहुंचाना और मनरेगा मजदूरों को एडवांस पेमेंट देना है।

पार्टी प्रवक्ता पवन खेड़ा ने शुक्रवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उन लोगों की जवाबदेही सुनिश्चित करें जिनके कारण कोरोना के खिलाफ लड़ रहे चिकित्सकर्मियों के लिए निजी सुरक्षा उपकरणों (पीपीई) की उपलब्धता में ''विलंब'' हुआ है। पवन खेड़ा ने प्रधानमंत्री के वीडियो संदेश का हवाला देते हुए यह दावा भी किया कि देश के सभी वर्गों ने मोदी के संबोधन से जो उम्मीद लगा रखी थीं वो पूरी नहीं हुईं।

कांग्रेस का सवाल- मोदी जी ताली, थाली, दिए जलाना तो ठीक, लेकिन डॉक्टरों को PPE और गरीबों  को आर्थिक मदद कब मिलेगी?

कांग्रेस प्रवक्ता ने वीडियो लिंक के माध्यम से संवाददाताओं से कहा, ''प्रधानमंत्री जी, देश को उम्मीद थी कि आप चिकित्सकर्मियों के लिए पीपीई की उपलब्धता के बारे बताएंगे, आप बताएंगे कि किसानों, गरीबों और मजदूरों के खातों में 7500 रुपये डाले जाएंगे। मनरेगा के मजदूरों को उम्मीद थी कि आप उन्हें अग्रिम भुगतान की राशि देने की घोषणा करेंगे।''

कांग्रेस का सवाल- मोदी जी ताली, थाली, दिए जलाना तो ठीक, लेकिन डॉक्टरों को PPE और गरीबों  को आर्थिक मदद कब मिलेगी?

पवन खेड़ा ने कहा, '' चिकिस्ता जांच तेजी से नहीं हो रही है। 130 करोड़ के देश में अब तक सिर्फ 50 हजार जांच हुई हैं।'' खेड़ा ने सवाल किया, ''अपने कहा था कि ताली और थाली बजाओ, सबने बजाई। अब आप कह रहे हैं कि दीए, मोमबत्ती और टार्च जलाओ, वो भी जल दिया जाएगा। लेकिन यह बताइए कि जिन चिकित्सकर्मियों के लिए अपने ताली और थाली बजवाई थी उन्हें निजी सुरक्षा उपकरण क्यों नहीं मिल रहे हैं? इसकी जिम्मेदारी किसकी है?''

उन्होंने कहा, '' निजी सुरक्षा उपकरणों की खरीद में विलंब के लिए कौन जवाबदेह है? किसने मास्क और वेंटिलेटर के निर्यात पर रोक नहीं लगाई? इसकी जवाबदेही तय करिए।'' कांग्रेस नेता ने यह सवाल भी किया, ''गरीबों और मजदूरों का चूल्हा जलता रहे, क्या यह जिम्मेदारी आपकी नहीं है?

लॉकडाउन को लेकर पवन खेड़ा बोले कि आज देश के 60 फीसदी सप्लाई ट्रक रुके हुए हैं। इससे जरूरत के सामान का दाम बढ़ रहा है। ना ही ड्राइवरों को तनख्वाह मिल रही है, देश में सिर्फ 20 फीसदी ही किराना की दुकानें खुली हैं।

कांग्रेस का सवाल- मोदी जी ताली, थाली, दिए जलाना तो ठीक, लेकिन डॉक्टरों को PPE और गरीबों  को आर्थिक मदद कब मिलेगी?

कांग्रेस नेता ने कहा कि सवा सौ करोड़ में अभी तक सिर्फ 50 हजार से कम ही कोरोना के टेस्ट हुए हैं। ऐसे में ये चिंताजनक है। प्रधानमंत्री ने इन मसलों पर कुछ भी नहीं कहा।

कांग्रेस का सवाल- मोदी जी ताली, थाली, दिए जलाना तो ठीक, लेकिन डॉक्टरों को PPE और गरीबों  को आर्थिक मदद कब मिलेगी?

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संबोधन के बाद पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम, कांग्रेस नेता शशि थरूर की ओर से भी सवाल खड़े किए गए थे और गरीबों को आर्थिक मदद पहुंचाने की अपील की गई थी।

शुक्रवार को अपने संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपील की है कि लोग रविवार की रात नौ बजे अपनी बालकनी, घरों के गेट पर आएं और नौ मिनट तक दीया या फिर मोमबत्ती जलाएं। पीएम ने ये अपील देशवासियों से एकजुटता दिखाने के लिए की है।

लोकप्रिय