कांग्रेस कार्यसमिति: 2019 का रोडमैप तैयार, मोदी सरकार के खिलाफ विपक्ष को साथ लेकर जन आंदोलन करेगी कांग्रेस

कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में राफेल डील, एनआरसी, बढ़ती बेरोजगारी समेत कई अहम मुद्दों पर चर्चा के बाद कांग्रेस ने इन मुद्दों पर विपक्षी दलों को साथ लेकर देशव्यापी अभियान छेड़ने का फैसला लिया है। बैठक में 2019 के चुनाव में महागठबंधन पर भी चर्चा हुई।

फोटोः बिपिन
फोटोः बिपिन

विश्वदीपक

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की अध्यक्षता में शनिवार को दिल्ली में वर्किंग कमेटी की अहम बैठक हुई। इस बैठक में पार्टी ने असम में जारी एनआरसी ड्राफ्ट, राफेल विमान सौदा, देश में बढ़ती बेरोजगारी और 2019 के चुनाव के लिए महागठबंधन समेत कई अहम मुद्दों पर चर्चा की। बैठक में राफेल विमान सौदे को आगामी चुनाव में बड़ा मुद्दा बनाने का फैसला लिया गया। मिली जानकारी के अनुसार इस मुद्दे पर कांग्रेस 3 समितियों का गठन करेगी, जिनकी रिपोर्ट के आधार पर आगे की रणनीति तय होगी।

बैठक के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर बैठक में शामिल होने वाले सभी नेताओं का शुक्रिया अदा किया। राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा, “आज कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक हुई। एक टीम के तौर पर हमने देश के राजनीतिक हालात और भ्रष्टाचार और युवाओं को रोजगार देने में सरकार की विफलता को उजागर करने के उपलब्ध अवसरों पर चर्चा की। आज की बैठक में शामिल होने वाले सभी नेताओं का शुक्रिया।”

कार्यसमिति की बैठक की जानकारी देते हुए कांग्रेस महासचिव अशोक गहलोत ने बताया कि बैठक में राफेल डील के अलावा एनआरसी, बैंको में जारी भ्रष्टाचार और बढ़ते एनपीए के अलावा बढ़ती बेरोजगारी के मुद्दे पर भी गहन चर्चा हुई। अशोक गहलोत ने कहा कि पार्टी इन मुद्दों को लेकर लोकसभा चुनाव में मजबूती के साथ उतरेगी।

कांग्रेस कार्यसमिति: 2019 का रोडमैप तैयार, मोदी सरकार के खिलाफ विपक्ष को साथ लेकर जन आंदोलन करेगी कांग्रेस

कांग्रेस मीडिया सेल के प्रमुख रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि मोदी सरकार ने अपनी विफलताओं पर पर्दा डालने के लिए एनआरसी मुद्दे को उछाला है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस का मानना है कि हर भारतीय को अपनी नागरिकता साबित करने का पूरा अधिकार है और उन्हें हर हाल में इसका मौका दिया जाना चाहिए। सुरजेवाला ने बताया कि एनआरसी को असम समझौते के तहत लागू किया जाना चाहिए था। असम में अवैध शरणार्थियों की पहचान के लिए गोगोई जी की सरकार ने ठोस कदम उठाए थे। उनकी सरकार में 2005 से 2013 के बीच कांग्रेस सरकार ने 82,728 अवैध शरणार्थियों निकाला था, लेकिन बीजेपी सरकार ने 4 साल में सिर्फ 1822 लोगों को निर्वासित किया।

रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि बैठक में राफेल विमान सौदे में अनियमितता और बैंक घोटालों और उसके एक आरोपी मेहुल चोकसी के देश छोड़कर भागने में सीबीआई, ईडी और पीएमओ की भूमिका पर भी चर्चा हुई। सुरजेवाला ने कहा कि इन मुद्दों को लेकर कांग्रेस कार्यसमिति ने एक बड़ा अभियान छेड़ने का फैसला किया है, जिसमें विपक्ष के कई दल भी शामिल होंगे।

इससे पहले कार्यसमिति की बैठक में पूर्व पीएम और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मनमोहन सिंह ने देश की अर्थव्यवस्था, एनआरसी ड्राफ्ट बिल, राफेल डील और भ्रष्टाचार सहित कई मुद्दों को लेकर अपनी बात रखी। बैठक में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद, अशोक गहलोत, अहमद पटेल समेत कई वरिष्ठ नेता शामिल हुए। जानकारी के मुताबिक बैठक में यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी शामिल नहीं हो सकीं।

Published: 4 Aug 2018, 4:49 PM
लोकप्रिय