कांग्रेस की विचारधारा देश का डीएनए, कभी हकीकत नहीं होगा 'कांग्रेस मुक्त भारत' : गहलोत

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सोमवार को भाजपा के 'कांग्रेस मुक्त भारत' के विचार का मजाक उड़ाया और कहा कि यह नारा कभी साकार नहीं होगा क्योंकि कांग्रेस की विचारधारा देश का डीएनए है।

फोटो: विपिन
फोटो: विपिन
user

नवजीवन डेस्क

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सोमवार को भाजपा के 'कांग्रेस मुक्त भारत' के विचार का मजाक उड़ाया और कहा कि यह नारा कभी साकार नहीं होगा क्योंकि कांग्रेस की विचारधारा देश का डीएनए है। दिल्ली के जंतर मंतर पर कांग्रेस के 'सत्याग्रह' में शामिल हुए गहलोत ने कहा, पीएम मोदी और बीजेपी से हमारी निजी दुश्मनी नहीं है, हमारी विचारधारा के लिए लड़ाई है।

उन्होंने कहा कि बीजेपी हमें दुश्मन समझकर कांग्रेस मुक्त भारत की बात करती है, लेकिन यह हकीकत नहीं होने वाला है क्योंकि देश में हर जगह कांग्रेस है। यह एक विचारधारा है, जो कभी नहीं मरेगी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की विचारधारा देश का डीएनए है।

बीजेपी-आरएसएस पर हमला बोलते हुए गहलोत ने कहा, "वे संविधान और कानून से नहीं अपनी सोच से देश चलाना चाहते हैं। उनकी सोच बहुत खतरनाक है। आरएसएस-बीजेपी ने आतंक पैदा किया है और देश को लूट रहे हैं, इसीलिए उन्होंने लोकपाल के बारे में बात करना बंद कर दिया।"


उन्होंने ईडी की राहुल गांधी की पूछताछ और कांग्रेस मुख्यालय में पुलिस के घुसने का विरोध करने वाले कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं को हिरासत में लेने को लेकर भी केंद्र सरकार पर निशाना साधा।

गहलोत ने बीजेपी पर तंज कसते हुए पूछा कि अगर राजस्थान बीजेपी ऑफिस में पुलिस घुस गई तो क्या होगा? दिल्ली में मीडिया से बात करते हुए गहलोत ने कहा, 'राजस्थान में हमारी सरकार है, अगर राजस्थान में बीजेपी के लोग विरोध करते हैं तो क्या हमें भी वैसा ही व्यवहार करना चाहिए जैसा उन्होंने हमारे साथ किया।'

उन्होंने सवाल किया कि अगर गुजरात में मोदी जी के भाई के घर पर छापा मारा जाए तो कैसा लगेगा? हाल ही में सीबीआई की टीम ने जोधपुर में गहलोत के भाई के घर पर छापा मारा था।

उन्होंने कहा, "मैंने 13 जून को सीबीआई, ईडी, सीबीडीटी प्रमुखों से मिलने के लिए समय मांगा था, मेरे भाई पर 15 जून को मामला दर्ज किया गया था और 17 जून को छापेमारी की गई थी। राजनीतिक संकट के दौरान भी मेरे भाई की 2020 में जगह पर छापा मारा गया था।"

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia