73वें स्वतंत्रता दिवस पर सोनिया गांधी का देश को संदेश, कहा-असहिष्णुता और अन्याय के लिए देश में नहीं कोई स्थान

73वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने देश के लोगों के नाम एक संदेश मे कहा कि हमें अपनी अजादी के लिए हर उस कार्य के खिलाफ खड़े रहना चाहिए जिससे अन्याय, असहिष्णुता और भेदभाव को बढ़ावा मिलता है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

पूरे देश में आज स्वतंत्रता दिवस की 73वीं वर्षगांठ बड़ी ही धूमधाम से मनाई जा रही है। इस मौके पर कांग्रेस के दिल्ली स्थित मुख्यालय में समारोह आयोजित किया गया। इस दौरान कांग्रेस पार्टी की अध्यक्ष सोनिया गांधी ने तिरंगा फहराया। सोनिया गांधी के अलावा पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, मोती लाल वोरा, राहुल गांधी, कपिल सिब्बल और गुलाम नबी आजाद समेत पार्टी के कई बड़े नेता वहां मौजूद थे।

सोनिया गांधी ने इस मौके पर पार्टी कार्यकर्ताओं और देशवासियों को स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं देते हुए एक संदेश दिया। उन्होंने कहा कि भारत आज सभी क्षेत्रों में बड़ी ही तेजी के साथ आगे बढ़ा है। लेकिन सत्य, अहिंसा, करुणा और अटूट देशभक्ति हमरे मूल के संस्थापक सिद्धांत हैं।

सोनिया गांधी ने कहा कि आज 73वें साल में लोकतांत्रिक भारत में कट्टरता, अंधविश्वास, साम्प्रदायिकता, कट्टरवाद, नस्लभेद, असहिष्णुता और अन्याय के लिए कोई स्थान नहीं है, इसके बावजूद भी लाखों देशवासियों को हर दिन भेदभाव का सामना करना पड़ता है।

उन्होंने कहा कि हमें अपनी अजादी के लिए हर उस कार्य के खिलाफ खड़े रहना चाहिए जिससे अन्याय, असहिष्णुता और भेदभाव को बढ़ावा मिलता है।

भारत की आज़ादी के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले लोगों के बलिदान को याद दिलाते हुए सोनिया गांधी ने कहा कि हमारी स्वतंत्रता उन लोगों के अथाह बलिदान का परिणाम है, जिनकी वजह से भारत आज मजबूत बना हुआ है। सोनिया गांधी ने देश के हर नागरिक से स्वतंत्रता, भाईचारे, शांति और समानता के मूल्यों की रक्षा और संरक्षण के महान कर्तव्य का पालन करने का आह्वान किया।

देश में और देश से बाहर रहने वाले सभी भारतीयों को बधाई देते हुए सोनिया गांधी ने कहा कि अपने देश की अखंडता की रक्षा करते हुए अपने सशस्त्र बलों के सर्वोच्च बलिदान को हमें कभी नहीं भूलना चाहिए। इसके अलावा उन्होंने देश के किसानों, मजदूरों, कारीगरों, वैज्ञानिकों, व्यापारियों, शिक्षकों, कलाकारों, लेखकों और विचारकों का भी शुक्रिया अदा, जो राष्ट्र निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

विशेष रूप से भारत के युवा वर्ग को बधाई देते हुए उन्होंने कहा कि वैज्ञानिक स्वभाव के आधार पर स्थापित आधुनिक, समान, न्यायपूर्ण और समतावादी समाज के निर्माण के रूप में राष्ट्र निर्माण का भी कार्य उनके हाथों में है।

सोनिया गांधी ने सभी से दया, सह-अस्तित्व और समावेशी विकास के सिद्धांतों को मजबूत बनाने की अपील की, जो हमारी राजनीति, समाज और अर्थव्यवस्था की अमिट विशेषताएं हैं।

स्वतंत्रता दिवस मौके पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी और पार्टी राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने भी ट्वीट करके देश के लोगों को बधाई दी है।

लोकप्रिय