दिल्ली: 'शराब लाईसेंस वितरण में हजारों करोड़ रुपए का हुआ घोटाला', CBI जांच की सिरफारिश का कांग्रेस ने किया स्वागत

दिल्ली सरकार की शराब नीति पर विपक्ष सवाल उठाता रहा है। राजधानी में नई शराब नीति के लागू होने के बाद से ही केजरीवाल सरकार पर भ्रष्टाचार के आरोप लगते रहे हैं।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

दिल्ली सरकार की शराब नीति पर विपक्ष सवाल उठाता रहा है। राजधानी में नई शराब नीति के लागू होने के बाद से ही केजरीवाल सरकार पर भ्रष्टाचार के आरोप लगते रहे हैं। इसी बीच दिल्ली के उपराज्यपाल ने नई शराब नीति में भ्रष्टाचार की जांच करने की सिरफारिश की है। उनके इस कदम का प्रदेश कांग्रेस ने स्वागत किया है। प्रदेश अध्यक्ष अनिल चौधरी ने कहा, कांग्रेस पहले दिन से ही शराब नीति का विरोध कर रहे हैं, जिसके लिए कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल ने सरकार की शराब नीति में हुए भ्रष्टाचार की जांच कराने के लिए दिल्ली पुलिस आयुक्त को लिखित शिकायत भी की।

कांग्रेस के मुताबिक, दिल्ली सरकार द्वारा नई आबकारी नीति 2021-22 की शर्तो का उल्लंघन करके ओएसिस ग्रुप की चुनिंदा कम्पनियों को अवैध रुप से शराब लाईसेंस वितरण करने में हजारों करोड़ रुपये का घोटाला किया गया। शराब नीति पर दिल्ली के मुख्य सचिव की रिपोर्ट को आधार बनाकर ही उपराज्यपाल ने दिल्ली सरकार की शराब नीति के खिलाफ सीबीआई जांच की सिफारिश की है।


अनिल चौधरी ने कहा, रिपोर्ट में शराब के ठेकों के लाईसेंस धारियों को अनुचित लाभ पहुंचाने का काम किया गया है और नियमों और आवंटन प्रक्रिया का उलंघन करके ठेके आवंटित किए गए हैं। 32 जोन में विभाजित राजधानी में 849 ठेके खोलने की बोली निजी संस्थाओं और रिटेल लाईसेंस दिए गए और दिल्ली सरकार ने नियमों को ताक पर रखकर शराब माफिया के साथ मिलकर काम किया। यही नही ब्लैक लिस्टेड कम्पनियों तक को टैंडर दिए गए।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 22 Jul 2022, 6:51 PM
;