चीन से लौटे 5 भारतीयों में मिले कोरोना वायरस के लक्षण, आर्मी अस्पताल में शिफ्ट, केरल में राजकीय आपदा घोषित

केरल में अब तक तीन लोगों में कोरोना वायरस की पुष्टि हो चुकी है। तीनों मरीजों को आईसोलेशन वॉर्ड में रखा गया है। फिलहाल तीनों की हालत स्थिर है। केरल में इस बीमारी के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए इसे राजकीय आपदा घोषित कर दिया गया है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

चीन में कोरोना वायरस से कोहराम मचा हुआ है। अब तक चीन में 425 लोगों की मौत हो चुकी है। 20 हजार से ज्यादा लोग इस बीमारी की चपेट में हैं। दुनिया भर में इस जानलेवा बीमारी ने पैर पसार लिया है। वहीं, चीन में फंसे भारतीयों को वापास लाया जा रहा है। अब तक 647 भारतीयों को चीन से एयरलिफ्ट किया जा चुका है। खबरों के मुताबिक, चीन से वापस लाए गए भारतीयों में 5 लोगों में सर्दी और खांसी के लक्षण पाए गए हैं। ऐसे में उन 5 लोगों को दिल्ली के सैन्य अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इसके साथ ही सभी संदिग्धों को आईसोलेशन वॉर्ड में रखा गया है। डॉक्टरों के मुताबिक, इन पांच लोगों के ब्लड सैंपल जांच के लिए एम्स भेजा गया है।

शुरू में चीन से आए 247 लोगों को एक साथ गुरुग्राम के मानेसर अस्पताल में रखा गया था, लेकिन इनमें सर्दी और खांसी की शिकायत के बाद इन्हें अलग दिल्ली के सैन्य अस्पताल में रखा गया है।

उधर, केरल में अब तक तीन लोगों में कोरोना वायरस की पुष्टि हो चुकी है। तीनों मरीजों को आईसोलेशन वॉर्ड में रखा गया है। फिलहाल तीनों की हालत स्थिर है। केरल में इस बीमारी के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए इसे राजकीय आपदा घोषित कर दिया गया है। प्रदेश की स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा ने सोमवार शाम कहा कि मुख्यमंत्री पिनारई विजयन के निर्देश पर राजकीय आपदा की घोषणा की गई।

प्रदेश भर में लोगों को में देशहत का माहौल है। स्वास्थ्य विभाग अलर्ट पर है। केरल में सभी जिलों को इसे लेकर प्रभावी कदम उठाने का निर्देश जारी किया गया है। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि सरकार उन लोगों की लिस्ट बना रही है जो चीन के वुहान से लौटे हैं। इसके लिए इमीग्रेशन डिपार्टमेंट से संपर्क करने की तैयारी कर रही है।

क्या है कोरोना वायरस और क्या हैं इसके लक्षण?

कोरोना वायरस एक विषाणुजनित रोग है। जो चीन में काफी फैला हुआ है। धीरे-धीरे ये वायरस दूसरे देशों में भी तेजी से फैल रहा है। बुखार खांसी-जुकाम, गले में खराश होना इस वायस के लक्षण हैं। हालत ज्यादा गंभीर होने पर इंसान को सांस लेने में तकलीफ और न्यूमोनिया होने लगता है।

कैसे करें बचाव?

इस वायरस से डरने की जरूरत नहीं है। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, सावधानी और सतर्कता से बचाव आसान है। कोरोना वायरस के लिए कोई खास दवा या वैक्सीन फिलहाल नहीं है। सिर्फ लक्षण और डॉक्टरों की सलाह से इसका इलाज किया जाता है।

लोकप्रिय