3 मई के बाद भी एकदम से नहीं बल्कि इस तरह हटेगा लॉकडाउन, जून-जुलाई में होगी असली इम्तिहान!

कोरोना वायरस के कहर से बचन के लिए देश में पहले 21 दिन का लॉकडाउन लगाया गया और फिर इसे आगे बढ़ाकर 3 मई के लिए कर दिया गया। लेकिन क्या 3 मई के बाद लॉकडाउन हटा लिया जाएगा ये सबसे बड़ा सवाल है। अभी तक इसको लकर कोई जानकारी समाने नहीं आई है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कोरोना वायरस के कहर से बचन के लिए देश में पहले 21 दिन का लॉकडाउन लगाया गया और फिर इसे आगे बढ़ाकर 3 मई के लिए कर दिया गया। लेकिन क्या 3 मई के बाद लॉकडाउन हटा लिया जाएगा ये सबसे बड़ा सवाल है। अभी तक इसको लकर कोई जानकारी समाने नहीं आई है। सरकार ने भी 3 मई के बाद क्या होने वाला है इसके बारे में कुछ नहीं कहा है। इसे लेकर एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी के स्पष्ट संकेत है कि लड़ाई अभी खत्म नहीं हुई है। नीति आयोग के सदस्य डॉ. वीके पॉल ने कहा है कि कोरोनोवायरस के खिलाफ लड़ाई में भारत का असली इम्तिहान जून-जुलाई में होगा।

डॉ. पॉल ने अंग्रेजी अखबार द इंडिनय एक्सप्रेस को दिए एक इंटरव्यू में कहा, “लॉकडाउन में ढील देने से संभवतः वायरस को फिर से जागृत होने और फैलने का एक अवसर मिलेगा। वायरस के प्रसार को लेकर उन्होंने कहा, “अभूतपूर्व आर्थिक लागत और मुश्किल प्रस्थितियों में किए गए लॉकडाउन से मिले लाभ को हम व्यर्थ जाने नहीं दे सकते। हमें वायरस के संचरण को नियंत्रण में रखना होगा और यह सुनिश्चित करना होगा कि कोई नई समस्या सामने ना आए। जून और जुलाई हमारे संकल्प का परीक्षण करेंगे। ”


डॉ. पाल ने आगे कहा कि तीन मई के बाद लॉकडाउन एक दम से नहीं उठाया जा सकता, यह एक “चरणबद्ध और बारीक मामला” होगा। AIIMS में पीडियाट्रिक्स के पूर्व प्रोफेसर डॉ. पॉल, सरकार के कोविड 19 प्रबंधन योजना के क्रियान्वयन और निष्पादन में सबसे महत्वपूर्ण लोगों में से एक हैं। नीति आयोग के अलावा, वह चिकित्सा आपातकालीन प्रबंधन योजना पर गृह मंत्रालय द्वारा गठित सशक्त समूह के अध्यक्ष भी हैं। वे लॉकडाउन से संबंधित रणनीतिक मुद्दों पर अधिकार प्राप्त समूह के सदस्य भी है, जो गृह सचिव अजय भल्ला की अध्यक्षता में है।

उन्हेंने कोरोना के लिए टीका बनाने पर भी जोर दिया। डॉ. पालन ने कहा कि निकट भविष्य में हम एक स्वदेशी टीका विकसित करने के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं एक सशक्त कार्य बल यह सुनिश्चित कर रहा है। भारत वैक्सीन विकास और विनिर्माण के लिए वैश्विक केंद्र बनने का कोई अवसर नहीं खोएगा।”

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 22 Apr 2020, 2:00 PM