'बर्बरता की हर हद पार कर गई मोदी सरकार', पुलिस की धक्कामुक्की में चिदंबरम और प्रमोद तिवारी की पसली में फ्रैक्चर

पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम की बाईं पसली में फ्रैक्चर हो गया। कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि दिल्ली में पार्टी के विरोध प्रदर्शन के दौरान पुलिस ने उन्हें धक्का दिया, जिसके बाद उनकी पसली में फैक्चर हो गया है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने सोमवार को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के समक्ष अपना बयान दर्ज कराया। इस दौरान कांग्रेस ने मोदी सरकार और ईडी के खिलाफ देश भर मे जोरदार प्रदर्शन किया। पार्टी के सभी बड़े नेता इस विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए। हालांकि दिल्ली में कांग्रेस के विरोध प्रदर्शन को रोकने के लिए भारी संख्या में पुलिस बलों को तैनाती की गई। विरोध प्रदर्शन के दौरान कांग्रेस नेताओं के साथ धक्कामुक्की भी की गई। पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम की बाईं पसली में फ्रैक्चर हो गया। कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि दिल्ली में पार्टी के विरोध प्रदर्शन के दौरान पुलिस ने उन्हें धक्का दिया, जिसके बाद उनकी पसली में फैक्चर हो गया है। कांग्रेस ने यह भी दावा किया कि राहुल गांधी की ईडी के सामने पेशी पर पार्टी के विरोध मार्च के दौरान पुलिस की धक्कामुक्की में उसके कई अन्य नेताओं को चोटें आई हैं।

कांग्रेस नेता और राज्यसभा सांसद रणदीप सिंह सुरजेवाला ने ट्वीट कहा कि पूर्व गृह मंत्री चिदंबरम के साथ पुलिस ने धक्कामुक्की की जिससे उन्हें चोट आई है।

सुरजेवाला ने लिखा, "मोदी सरकार बर्बरता की हर हद पार कर गई। पूर्व गृह मंत्री, श्री पी.चिदंबरम के साथ पुलिस की धक्कामुक्की हुई, चश्मा जमीन पर फेंका, उनकी बायीं पसलियों में हेयरलाइन फ्रैक्चर है। सांसद प्रमोद तिवारी को सड़क पर फेंका गया। सिर में चोट और पसली में फ्रैक्चर है। क्या यह प्रजातंत्र है?"


खुद पी चिंदबरम ने भी इस बात की पुष्टि की है। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि, जब तीन बड़े पुलिस वाले आपसे टकरात हैं और आपको सिर्फ हेयरलाइन फ्रैक्चर हो तो आप भाग्यशाली है। उन्होंने आगे बताया कि डॉक्टरों ने कहा है कि अगर हेयरलाइन फ्रैक्चर है तो, तो वह लगभग 10 दिनों में अपने आप ठीक हो जाएगी।

सुरजेवाला ने अपने एक और ट्वीट मे कहा, "सारा दिन बीत गया, हमला जारी है। निशाना बना कर कांग्रेस संगठन महासचिव, श्री के.सी.वेणुगोपाल पर जानलेवा हमला बोला गया। सांसद , शक्ति सिंह गोहिल पर हमला हुआ। कांग्रेस कार्यकर्ताओं को पीटा गया। हजारों जेलों में बंद हैं। प्रजातंत्र को रौंदा गया है।"


इससे पहले देश की मुख्य विपक्षी दल ने यह दावा भी किया कि राहुल गांधी की ईडी के समक्ष पेशी पर पार्टी के ‘सत्याग्रह’ को रोकने के लिए केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने नयी दिल्ली इलाके में ‘अघोषित आपातकाल’ लगा दिया। पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं और बड़ी संख्या में कार्यकर्ताओं ने राहुल गांधी के समर्थन में मार्च निकाला जिसके बाद पुलिस ने कई लोगों को हिरासत में ले लिया।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 13 Jun 2022, 9:28 PM