JNU: 1 हफ्ते बाद 1 भी गिरफ्तारी नहीं, पुलिस ने 9 और छात्रों को पहचाना, नोटिस जारी कर जांच में शामिल होने के लिए कहा!

इससे पहले खबर आई थी कि वीडियो के जरिए छात्रों की पहचान के बाद पुलिस ने वार्डन, 13 गार्ड और 5 छात्रों के बयान दर्ज किए गए हैं। हालांकि अब तक पुलिस ने इस मामले में कोई बयान जारी कर यह नहीं बताया है कि इस मामले में किसी को नोटिस जारी किया गया है या नहीं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

दिल्ली पुलिस की एसआईटी जेएनयू हमला मामले की जांच कर रही है। घटना के एक हफ्ते के बाद भी पुलिस ने एक भी हमलावर को गिरफ्तार नहीं किया है। वह भी तब जब पुलिस के पास कई अहम सबूत मौजूद हैं। इस बीच न्यूज़ एजेंसी एएनआई ने दिल्ली पुलिस के सूत्रों के हवाले से खबर दी है कि पुलिस ने 9 और छात्रों की पहचान की है। पुलिस ने इन छात्रों को नोटिस जारी किया है। पुलिस ने छात्रों को नोटिस जारी कर सोमवार को जांच में शामिल होने के लिए कहा है। बताया जा रहा है कि मामले की जांच कर रही एसआईटी इसके बाद उन 37 छात्रों को बुलाएगी, जिनकी पहचान उसने पहले की थी। यह वो 37 छात्र हैं, जो उस व्हाट्सएप ग्रुप में शामिल थे, जिसके जरिए हमले की साजिश रची गई थी।

इससे पहले खबर आई थी कि वीडियो के जरिए छात्रों की पहचान के बाद पुलिस ने वार्डन, 13 गार्ड और 5 छात्रों के बयान दर्ज किए गए हैं। हालांकि अब तक पुलिस ने इस मामले में कोई बयान जारी कर यह नहीं बताया है कि इस मामले में किसी को नोटिस जारी किया गया है या नहीं। उधर, अब तक इस मामले में गिरफ्तारी नहीं किए जाने पर सवाल खड़े किए जा रहे हैं।

शनिवार को जेएनयू छात्रसंघ ने प्रेस कांफ्रेंस कर दिल्ली पुलिस की प्रेस कांफ्रेंस को बोगस करार दिया। इसके साथ एक न्यूज़ चैनल के स्टिंग को छात्रसंघ ने शुक्रिया कहा, जिसमें कथित तौर पर एबीवीपी से जुड़े कुछ छात्र खुद कबूल करते हुए नजर आ रहे हैं कि वे हिंसा में शामिल थे।

प्रेस से बात करते हुए जेएनयू छात्रसंघ की अध्यक्ष आइशी घोष ने कहा कि छात्रों ने 3 जनवरी को ही दिल्ली पुलिस को बताया था कि हिंसा होने वाली है, लेकिन पुलिस चाय का बहाना बनाकर चली गई। उन्होंने कहा कि इसके बाद कुछ गुंडों ने छात्रों पर हमला किया, जिसमें सतीश चंद्र घायल हो गए। घोष ने कहा कि पुलिस को दोबारा फोन किया गया, बावजूद इसके पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। गौरतलब है कि जेएनयू छात्रसंघ की प्रेस कांफ्रेंस से पहले दिल्ली पुलिस ने प्रेस कांफ्रेंस कर कई छात्रों को पहचाने जाने का दावा किया था, लेकिन अब तक कोई भी गिरफ्तारी नहीं की गई है।

Published: 12 Jan 2020, 11:30 AM
लोकप्रिय
next