मुख्य समाचार

दिल्ली-एनसीआर में धूल भरी आंधी से घुट रहा दम, अगले 3 दिन तक कोई राहत नहीं

दिल्ली-एनसीआर में सांस लेना हुआ मुश्किल

दिल्ली-एनसीआर में धूल भरी आंधी की वजह से सांस लेना मुश्किल हो गया है। राजस्थान से चली धूल भरी आंधी की चपेट में आने से दिल्ली-एनसीआर को अगले तीन दिनों तक राहत मिलने की उम्मीद नहीं है।

राजस्थान से चल रही धूल भरी आंधियों ने दिल्ली-एनसीआर वालों का सांस लेना मुश्किल कर दिया है। हालात इतने खराब हो गए है कि दिन में भी सूरज धूंधला दिखाई दे रहा है। सतह बेहद गर्म होने और तेज हवाओं के साथ उड़ती धूल ने वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) को भी गंभीर स्तर पर पहुंचा दिया है। आज भी दिल्ली के कई इलाकों में हवा की गुणवत्ता खराब स्तर पर बनी हुई है।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के आंकड़ों के मुताबिक, बुधवार को दिल्ली में पीएम 10 का स्तर 824 तक चला गया। वहीं एनसीआर में पीएम 10 का स्तर 778 तक पहुंच गया। जो ‘अत्यंत गंभीर’ के स्तर से काफी ऊपर है। दिल्ली में कई जगहों पर एयर क्वालिटी इंडेक्स 500 के पार गया। आनंद विहार में एयर क्वालिटी इंडेक्स 891 पहुंचा गया, जबकि 500 अंकों तक आते-आते ये सीवियर- यानी खतरनाक हो जाता है।

दिल्ली-एनसीआर समेत यूपी के मेरठ, सहारनपुर और मुरादाबाद में लोग आंखों में जलन और सांस लेने में दिक्कत की शिकायत कर रहे हैं। मौसम विभाग के अधिकारियों ने चेतावनी जारी करते हुए कहा कि अगले तीन दिनों तक ऐसे ही हालात रहने की उम्मीद है। अधिकारियों ने लोगों को सलाह देते हुए कहा कि ज्यादा से ज्याद लोग घरो में रहें।

मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक, दिल्ली-एनसीआर का मौसम खराब होने की वजह ईरान और दक्षिण-अफगानिस्तान की तरफ से आ रही धुल भरी हवाएं हैं। जो 20 हजार फीट की ऊंचाई से राजस्थान से होते हुए दिल्ली में दस्तक दे रही हैं। मौसम विशेषज्ञों का कहना है कि इन दिनों भीषण गर्मी से जूझ रहे राजस्थान में पश्चिमी विक्षोभ के कारण धूल भरी आंधी चल रही है। इसका असर दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में धूलकणों के वायुमंडल में संघनित होने के रूप में दिख रहा है। 10 से 12 जून के बीच राजस्थान की धूल भरी आंधी का रुख दिल्ली की ओर रहा, जिसकी वजह से यह स्थिति पैदा हुई है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

सबसे लोकप्रिय

अखबार सब्सक्राइब करें