पेगासस जासूसी कांड: ईडी अधिकारी, केजरीवाल के सहयोगी, पीएमओ, नीति आयोग के अधिकारी समेत कई चौंकाने वाले नाम

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के एक वरिष्ठ अधिकारी राजेश्वर सिंह, जिन्होंने एजेंसी द्वारा की गई कई हाई-प्रोफाइल जांच का नेतृत्व किया था, को इजरायली स्पाइवेयर कंपनी एनएसओ ग्रुप के एक भारतीय ग्राहक द्वारा निगरानी के लिए संभावित लक्ष्य के रूप में चुना गया था।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के एक वरिष्ठ अधिकारी राजेश्वर सिंह, जिन्होंने एजेंसी द्वारा की गई कई हाई-प्रोफाइल जांच का नेतृत्व किया था, को इजरायली स्पाइवेयर कंपनी एनएसओ ग्रुप के एक भारतीय ग्राहक द्वारा निगरानी के लिए संभावित लक्ष्य के रूप में चुना गया था। पेगासस प्रोजेक्ट पर द वायर और उसके मीडिया पार्टनर्स द्वारा सामने लाए गए डेटा में यह खुलासा हुआ है।

फ्रांसीसी गैर-लाभकारी फॉरबिडन स्टोरीज द्वारा एक्सेस किए गए और प्रोजेक्ट के मीडिया कंसोर्टियम के साथ साझा किए गए डेटाबेस में न केवल सिंह के दो नंबर शामिल हैं, बल्कि उनके परिवार की तीन महिलाओं से संबंधित कुल चार नंबर शामिल थे, जिसका अर्थ है कि वे भी संभावित लक्ष्य थे।

कथित पेगासस जासूसी कांड की आए दिन परतें खुलती जा रही हैं। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के सहयोगी भी पेगासस स्पाईवेयर के निशाने पर थे। द वायर की रिपोर्ट में यह दावा किया गया है। यही नहीं, द वायर ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि इसके अलावा लीक हुए रिकॉर्ड में पीएमओ और नीति आयोग के कम से कम एक-एक अधिकारी की संख्या का भी ब्योरा सामने आया है।

उत्तर प्रदेश के एक प्रांतीय पुलिस सेवा अधिकारी (पीपीएस) सिंह 2009 से ईडी के साथ हैं और इस दौरान उन्होंने 2जी स्पेक्ट्रम घोटाला और एयरसेल-मैक्सिस मामले जैसे कई संवेदनशील मामलों की जांच में काम किया है। वह सहारा समूह और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी की आय से अधिक संपत्ति मामले की जांच में भी शामिल रहे हैं।


रिपोर्ट के अनुसार, इसके साथ ही आम आदमी पार्टी (आप) संयोजक और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के निजी सहायक के रूप में काम कर चुके पूर्व भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) अधिकारी वी. के. जैन भी पेगासस के निशाने पर थे।

जैन का फोन नंबर 2018 में लीक हुए रिकॉर्ड में सामने आता है, जब दिल्ली सरकार के सूत्रों के मुताबिक, उन्होंने राज्य सरकार की सबसे महत्वपूर्ण फाइलों को संभाला था। अपने पहले पूर्ण कार्यकाल के दौरान केजरीवाल के प्राथमिक सहयोगी के रूप में, जैन दिल्ली में स्कूली शिक्षा और स्वास्थ्य के बुनियादी ढांचे में सुधार जैसे मुख्यमंत्री के सबसे महत्वपूर्ण कल्याणकारी कार्यक्रमों के कार्यान्वयन से जुड़े हुए थे।

लीक हुए रिकॉर्ड से संकेत मिलता है कि केंद्र सरकार की नीतियों के थिंक-टैंक नीति आयोग के एक वरिष्ठ कर्मचारी के टेलीफोन नंबर को भी निगरानी के संभावित लक्ष्य के रूप में शामिल किया गया था। द वायर ने नंबर की पुष्टि की और इसमें शामिल व्यक्ति से बात की, लेकिन उनके अनुरोध पर उनकी पहचान छिपाई जा रही है, क्योंकि वे अब सरकारी निकाय में काम नहीं कर रहे हैं।


लीक रिकॉर्ड दिखाते हैं कि एक अधिकारी जो वर्तमान में प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) में एक अवर सचिव है, को भी 2017 में संभावित निगरानी के लिए चुना गया था। द वायर ने कहा कि वह 2017 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दौरों के प्रभारी थे, जब एनएसओ समूह के भारतीय ग्राहक ने उनमें रुचि दिखाई थी।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia