बेरोजगारी, भ्रष्टाचार के खिलाफ प्रदर्शन करने वालों पर बरसाई गोलियां, 31 लोगों की मौत, 1500 लोग घायल

इराकी इंडिपेंडेंट हाई कमीशन फॉर ह्यूमन राइट्स (आईएचसीएचआर) के एक सदस्य अली अल-बयाती ने बताया कि बगदाद और कुछ प्रांतों में तीन दिनों के विरोध प्रदर्शनों के दौरान हुई हिंसा में मरने वालों की संख्या दो सुरक्षाकर्मियों सहित बढ़कर 31 हो गई है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

इराक में हिंसक विरोध प्रदर्शन में मरने वालों की संख्या बढ़कर 31 हो गई है, जबकि 1,500 से अधिक घायल हुए हैं। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, ‘इराकी इंडिपेंडेंट हाई कमीशन फॉर ह्यूमन राइट्स’ (आईएचसीएचआर) के एक सदस्य अली अल-बयाती ने बताया कि बगदाद और कुछ प्रांतों में तीन दिनों के विरोध प्रदर्शनों के दौरान हुई हिंसा में मरने वालों की संख्या दो सुरक्षाकर्मियों सहित बढ़कर 31 हो गई है। उन्होंने कहा कि 1,509 घायलों में 401 सुरक्षाकर्मी शामिल हैं।

बेरोजगारी, सरकारी भ्रष्टाचार और बुनियादी सेवाओं की कमी को लेकर मंगलवार और बुधवार को राजधानी बगदाद और इराक के कई प्रांतों में प्रदर्शन हुए। बगदाद में प्रदर्शन हिंसक हो गए क्योंकि प्रदर्शनकारी पुलिस से भिड़ गए। विरोध प्रदर्शन अन्य इराकी प्रांतों में भी फैल गया जब सैकड़ों प्रदर्शनकारियों ने कई प्रांतीय सरकारी भवनों और प्रमुख राजनीतिक दलों के कार्यालयों पर हमला किया और आग के हवाले कर दिया।

गुरुवार को बगदाद में सुबह 5 बजे से कर्फ्यू लगाए जाने के बावजूद छिटपुट विरोध प्रदर्शन जारी रहा। रक्षा मंत्री नजह अल-शम्मारी ने बुधवार को एक बयान में कहा था कि उन्होंने राज्य की संप्रभुता को बनाए रखने और इराक में सक्रिय सभी विदेशी दूतावासों और राजनयिक मिशनों की रक्षा के लिए इराकी सशस्त्र बलों के लिए ‘अलर्ट’ की स्थिति बढ़ाने का फैसला किया है।

बता दें कि इराक की मेहदी सरकार इस समय नाजुक दौर से गुजर रही है। काफी संख्या में लोग भ्रष्टाचार, सेवा की कमी, बेरोजगारी और अव्यवस्था के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। प्रदर्शनकारियों की मांग है कि सामानों की कीमतों में कमी लाई जाए साथ ही लोगों को रोजगार मिले।

संयुक्त राष्ट्र संघ ने भी ईराक में जारी ताजा हालातों पर चिंता जताई है। ईराक में संयुक्त राष्ट्र के विशेष प्रतिनिधि हेनिस प्लास्चर्ट का कहना है कि सरकार शांतिपूर्ण प्रदर्शनों पर अनावश्यक हिंसात्मक कार्रवाई ना करें।

(आईएएनएस के इनुपट के साथ)

Published: 4 Oct 2019, 4:59 PM
लोकप्रिय