श्रीनगर पहुंचने पर कश्मीर के लोगों पर भड़के हुए क्रूर प्रशासन और कठोर बल का स्वाद चखने को मिला: राहुल गांधी

शनिवार को कांग्रेस सांसद राहुल गांधी के नेतृत्व में जम्मू-कश्मीर के हालातों का जायजा लेने गए सभी विपक्षी नेताओं को श्रीनगर पहुंचने पर एयरपोर्ट पर ही रोक लिया गया। इन नेताओं को श्रीनगर एयरपोर्ट से बाहर नहीं जाने दिया गया और न ही वहां मीडिया से बात करने दी।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

धारा 370 हटाए जाने के बाद से अब तक जम्मू-कश्मीर के हालातों को लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा, ‘जम्मू और कश्मीर के लोगों की आजादी छिने हुए और वहां नागरिक स्वतंत्रता पर अंकुश लगे पूरे 20 दिन हो चुके हैं। जब हमने श्रीनगर आने की कोशिश की तो विपक्ष के नेताओं और प्रेस के लोगों को जम्मू-कश्मीर के लोगों पर भड़के हुए क्रूर प्रशासन और कठोर बल का स्वाद चखने को मिला।’

बता दें कि शनिवार को कांग्रेस सांसद राहुल गांधी के नेतृत्व में जम्मू-कश्मीर के हालातों का जायजा लेने गए सभी 11 विपक्षी नेताओं को श्रीनगर पहुंचने पर एयरपोर्ट पर ही रोक लिया गया। इन नेताओं को श्रीनगर एयरपोर्ट से बाहर नहीं जाने दिया गया और न ही वहां मीडिया से बात करने दी गई। सभी नेताओं के एयरपोर्ट पर उतरते ही उन्हें हिरासत में ले लिया गया और जबरन वापस दिल्ली भेज दिया गया। हालांकि राहुल गांधी ने श्रीनगर एयरपोर्ट पर मौजूद अधिकारियों और सुरक्षाबलों से यह भी कहा था कि अगर धारा 144 लागू है तो वे बाकि नेताओं के बिना अकेले भी शहर जाने को तैयार हैं। लेकिन इस पर भी सुरक्षा कर्मियों ने मना कर दिया था।

दिल्ली लौटने पर पत्रकारों से बात करते हुए राहुल गांधी ने बताया था, “मुझे जम्मू-कश्मीर के दौरे के लिए वहां के राज्यपाल द्वारा आमंत्रित किया गया था। मैंने उनका निमंत्रण स्वीकार कर लिया। हम यह जानना चाहते थे कि वहां के लोगों की क्या हालत है, लेकिन हमें हवाई अड्डे से बाहर निकलने की अनुमति नहीं दी गई। हमारे साथ मीडिया के लोगों को गुमराह किया गया और पीटा गया। यह साफ तौर पर बताता है कि जम्मू-कश्मीर में हालात सामान्य नहीं हैं।”

लोकप्रिय