देश

लोकसभा चुनाव की घोषणा से ठीक एक दिन पहले दिल्ली में बीजेपी को मिली दो एकड़ जमीन

लोकसभा चुनाव के तारीखों के ऐलान के साथ ही आदर्श आचार संहिता भी लागू है। लेकिन खबर है कि आचार संहिता लगने से ठीक एक दिन पहले दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) ने बीजेपी को दिल्ली में दो एकड़ जमीन आवंटित की थी।

फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

सभी राजनीतिक दल लोकसभा चुनाव 2019 के तैयारियों में जोर शोर से लगे हुए हैं। कल से (18 मार्च) पहले चरण के लिए नामांकन की प्रक्रिया भी शुरू हो गई है। प्रथम चरण के लिए 11 अप्रैल को लोकसभा की 91 सीटों के लिए वोट डाले जाएंगे। इससे पहले 10 मार्च को चुनाव आयोग ने चुनाव की तारीखों का ऐलान किया था। चुनाव तारीखों के ऐलान के साथ ही आदर्श आचार संहिता भी लागू हो गया था। लेकिन खबर है कि आचार संहिता लगने से ठीक एक दिन पहले दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) ने बीजेपी को दिल्ली में दो एकड़ जमीन आवंटित की थी।

आदर्श आचार संहिता लागू होने से एक दिन पहले 9 मार्च को केंद्र सरकार ने मुख्यालय के लिए दिल्ली में अतिरिक्त 2 एकड़ जमीन के आवंटन के लिए तीन साल पुराने प्रस्ताव को मंजूरी दी थी। इकोनॉमिक्सस टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबकि चुनाव की तारीखों के ऐलान से एक दिन पहले 9 मार्च को डीडीए ने दीन दयाल उपाध्याय मार्ग पर 2.189 एकड़ भूमि के उपयोग के लिए एक मसौदा अधिसूचना जारी की। इतना ही नहीं इस अधिसूचना में इस जमीन के उपयोग को ‘समूह आवास’से बदलकर ‘सार्वजनिक और अर्ध-सार्वजनिक सुविधा’ कर दिया गया।

बीजेपी को नया प्लॉट पार्टी के मुख्यालय 6ए डीडीयू मार्ग के ठीक सामने है। रिपोर्ट में कहा गया है कि भूमि उपयोग में बदलाव की अधिसूचना के साथ सरकार ने 2015 में शुरू की गई आवंटन प्रक्रिया का निपटारा किया। हालांकि इस जमीन के लिए बीजेपी डीडीए को 2.08 करोड़ रूपए देगी।

बता दें कि 2006 में यूपीए सरकार ने राजनीतिक दलों के लिए भूमि आवंटन नियमों में बदला किया था। नए नियम के अनुसार, जिन पार्टियों के 101 से 200 सांसद हैं उन्हें 2 एकड़ तक जमीन दिया जा सकता है और अगर किसी पार्टी के 200 से ज्यादा सांसद हैं तो वो 4 एकड़ जमीन के हकदार होगा। हालांकि इसमें ये साफ नहीं है कि अगर अगले चुनाव में पार्टी के उतने सांसद नहीं रहते तो क्या होगा।

लोकप्रिय