विरोध के बाद जागी मोदी सरकार, पूर्व सैनिकों की पेंशन बैंक खातों में पहुंचाने का किया वादा, राहुल गांधी ने उठाया था मुद्दा

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आज ही केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए पूर्व-सैनिकों की पेंशन का मुद्दा उठाया था। जिसके बाद केंद्र सरकार ने वादा किया है कि आज शाम तक पूर्व सैनिकों की पेंशन उनके बैंक खातों में पहुंच जाएगी।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आज ही केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए पूर्व-सैनिकों की पेंशन का मुद्दा उठाया था। जिसके बाद केंद्र सरकार ने वादा किया है कि आज शाम तक पूर्व सैनिकों की पेंशन उनके बैंक खातों में पहुंच जाएगी।

इससे पहले कांग्रेस ने बुधवार को सेवानिवृत्त पूर्व सैनिकों की पेंशन रोकने वाली खबरों पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की थी। लेफ्टिनेंट जनरल डीएस हुड्डा (सेवानिवृत्त) ने ट्वीट किया था कि "पूर्व सैनिकों को बिना स्पष्टीकरण के पेंशन रोक दिया गया। अधिकांश के लिए यह आय का एकमात्र स्रोत है। राष्ट्र के लिए आपकी सेवा का धन्यवाद?"

विरोध के बाद जागी मोदी सरकार, पूर्व सैनिकों की पेंशन बैंक खातों में पहुंचाने का किया वादा, राहुल गांधी ने उठाया था मुद्दा

इस पर प्रतिक्रिया देते हुए, कांग्रेस महासचिव रणदीप सुरजेवाला ने जवाब दिया, "सशस्त्र बलों के हितों पर यह पहला हमला नहीं है और न ही आखिरी। सुप्रीम कोर्ट में विरोध सहित ओआरओपी को नकारना। विकलांगता पेंशन पर कर लगाना। ईसीएचएस बजट में कटौती। गैर कार्यात्मक उन्नयन से इनकार। सैन्य अस्पतालों में शॉर्ट सर्विस कमीशन अधिकारियों के इलाज से इनकार करना शामिल हैं।"


सेवा निवृत्तों से इस मुद्दे को उठाने का आग्रह करते हुए, उन्होंने कहा, "मैं आप जैसे प्रतिष्ठित चैंपियनों जैसे वेद मलिक और अन्य से आग्रह करता हूं कि वे हमारे पूर्व सैनिकों के मुद्दे को बिना भेदभाव के उठाएं और न्याय सुनिश्चित करें।"

उन्होंने आगे कहा, "सातवें वेतन आयोग में अन्याय -- नागरिकों के समान वेतन स्तर और जोखिम भत्ते से इनकार। भूतपूर्व सैनिकों के पुनर्वास के लिए पेट्रोल पंपों, गैस एजेंसियों, कोल इंडिया अनुबंधों के आवंटन से इनकार। सीएसडी कैंटीन में वस्तुओं की खरीद और जीएसटी लगाने पर रोक लगाना शामिल हैं।"


राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा, 'एक रैंक, एक पेंशन' के धोखे के बाद अब मोदी सरकार 'ऑल रैंक, नो पेंशन' की नीति अपना रही है। सैनिकों का अपमान करना देश का अपमान है। सरकार पूर्व सैनिकों को पेंशन जल्द से जल्द दे। इसके बाद सरकार ने पूर्व सैनिकों की पेंशन उनके बैंक खातों में जमा करने का वादा किया है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 04 May 2022, 4:53 PM