गुजरात हिंसा: नहीं थम रहे हिंदी भाषी के लोगों पर हमले, सूरत में बिहार के युवक की पीट-पीटकर हत्या

गुजरात में उत्तर भारतीयों पर हमले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। खबरों के मुताबिक, शुक्रवार की शाम को बिहार के गया के रहने वाले एक युवक की सूरत में कुछ लोगों ने पीट-पीटकर हत्या कर दी। इस घटना से इलाके में रह रहे उत्तर भारतीयों में दहशत का माहौल है।

फोटो: सोशल मीडिया 
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

गुजरात में उत्तर भारतीयों पर हमले और हिंसा की घटनाएं जारी हैं। ताजा मामला औद्योगिक शहर सूरत का है। जहां बिहार के गया के रहने वाले एक युवक की लोहे के रॉड से पीट-पीटकर हत्या कर दी गई। खबरों के मुताबिक, शुक्रवार की शाम को अमरजीत मिल से अपने घर वापस लौट रहा था तभी हिंसक भीड़ ने उसपर हमला बोल दिया और पीट-पीटकर उसकी हत्या कर दी।

परिजनों का कहना है बेटे की मौत गुजरात हिंसा के चलते हुई है। मृतक के पिता राजदेव सिंह एक रिटायर्ड सैनिक हैं। उन्होंने बताया, बेटे की मौत से पूरा परिवार सदमे में है। उसकी मदद से ही पूरे परिवार का गुजारा चल रहा था। हमसे हमारा सहारा भी छिन लिया गया। पीड़ित पिता ने बिहार सरकार के साथ गुजरात और केंद्र सरकार से हिंसा रोकने की दिशा में जरूरी कदम उठाने की मांग की है।

गया जिले के कोंच थाना के कौड़िया गांव का निवासी अमरजीत रोजगार की तलाश में 15 साल पहले गुजरात गया था। उसने काफी मेहनत करने के बाद यहां अपना एक घर बना लिया था और शादी भी कर ली थी। अमरजीत के दो बच्चे हैं। घटना की सूचना मिलने के बाद उसके पैतृक घर में मातम पसरा हुआ है।

बता दें कि गुजरात के साबरकांठा जिले के हिम्मतनगर में बीते 28 सितंबर को 14 महीने की बच्ची के साथ रेप की घटना सामने आई थी। पुलिस ने फौरन कार्रवाई करते हुए रेप के आरोपी बिहार के रहने वाले रविंद्र साहू नाम को गिरफ्तार कर लिया था। इस घटना के बाद स्थानीय लोगों में उत्तर भारतीयों के प्रति गुस्सा भड़क उठा था। उन्होंने विशेषकर बिहार और यूपी से वहां काम करने गए लोगों को अपना निशाना बनाना शुरू कर दिया था।

हिंसा के बाद दहशत में आए उत्तर भारतीय लोग अपने-अपने राज्यों को पलायन कर रहे हैं। गुजरात के कई इलाकों में काम करने वाले प्रवासी यूपी और बिहार के लोग इन दिनों ट्रेनों और बसों में भरकर अपने-अपने घरों को लौट रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: गुजरात: हिंसा के डर से यूपी-बिहार के लोगों का पलायन जारी, विपक्ष ने पीएम मोदी से पूछा - हमले पर चुप क्यों?

गुजरात में हिंदी भाषी कामगार और मजदूर खतरे में, सैकड़ों का पलायन, धमकाने वालों की धरपकड़ जारी

Published: 13 Oct 2018, 1:57 PM
लोकप्रिय