हेट क्राइम में बीजेपी शासित राज्य सबसे आगे, यूपी पहले और गुजरात दूसरे स्थान पर

मानवाधिकार समूह एमनेस्टी इंटरनेशनल की एक रिपोर्ट के अनुसार भारत में सबसे ज्यादा हेट क्राइम की घटनाएं बीजेपी शासित राज्यों में सामने आई हैं। हेट क्राइम के मामले में सबसे आगे उत्तर प्रदेश है और दूसरे नंबर पर गुजरात।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार समूह एमनेस्टी इंटरनेशनल ने भारत में हेट क्राइम की बढ़ रही घटनाओं के बीच एक अहम रिपोर्ट जारी की है। एमनेस्टी की इस ताजा रिपोर्ट में चौंकाने वाले तथ्य निकलकर सामने आए हैं। एमनेस्टी के अनुसार भारत में हेट क्राइम की घटनाओं में बीजेपी शासित राज्य सबसे आगे हैं। रिपोर्ट के अनुसार 2018 के पहले 6 महीनों में देश में दलितों, आदिवासियों और अल्पसंख्यकों के खिलाफ करीब 100 हेट क्राइम की घटनाएं हुई हैं। इनमें से सबसे ज्यादा 18 घटनाएं उत्तर प्रदेश में सामने आई हैं। वहीं, इस लिस्ट में दूसरे स्थान पर गुजरात है, जहां अब तक 13 मामले सामने आए हैं। गौरतलब है कि इन दोनों राज्यों में बीजेपी की सरकार है। इनके अलावा राजस्थान में 8, तमिलनाडू और बिहार में 7-7 मामले सामने आए हैं। इस रिपोर्ट से साफ पता चलता है कि देश में हेट क्राइम की घटनाओं में बीजेपी शासित राज्य सबसे आगे हैं।

एमनेस्टी इंटरनेशनल के भारत में कार्यकारी निदेशक आकार पटेल का कहना है कि हेट क्राइम अन्य दूसरे अपराधों से अलग होते हैं, क्योंकि इसके पीछे भेदभावपूर्व उद्देशय मुख्य कारण होता है। जबकि देश का कानून हेट क्राइम को अन्य अपराधों से अलग नहीं मानता है। इस मामले में हेट क्राइम की वजह से आए दिन होने वाली मॉब लिंचिंग की घटनाओं को अन्य अपराधों से अलग ठहराते हुए मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को इस पर अलग से कानून बनाने के लिए कहा है।

मानवाधिकार समूह ने 2015 में दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश के दादरी में गोमांस रखने के आरोप में हिंसक भीड़ द्वारा अखलाक की पीट-पीटकर हत्या के बाद हेट क्राइम की घटनाओं की सूची तैयार करनी शुरू की। दादरी की उस घटना के बाद से देश में अब तक हेट क्राइम की 603 घटनाएं सामने आ चुकी हैं। रिपोर्ट के अनुसार, इस साल के शुरूआती 6 महीनों में दलितों के खिलाफ 67 और मुसलमानों के खिलाफ 22 हेट क्राइम की घटनाएं हुई हैं। उत्तर प्रदेश में इस तरह की ज्यादातर घटनाएं पश्चिमी इलाके में सामने आई हैं।

लोकप्रिय