भारत ने टिकटॉक समेत 59 ऐप के बाद इन 47 और चीनी मोबाइल एप पर लगाए प्रतिबंध, पबजी समेत ये 275 ऐप्स हो सकते हैं बैन

भारत सरकार द्वारा पहले 59 चीनी एप्स पर प्रतिबंध लगाने के लगभग एक महीने बाद 47 और चीनी एप पर प्रतिबंध लगाए गए हैं, जो पहले प्रतिबंधित एप के क्लोन थे। इसकी जानकारी सूत्रों से मिली। संबंधित मोबाइल एप्लिकेशन की सूची जल्द ही प्रकाशित की जाएगी।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

भारत सरकार द्वारा पहले 59 चीनी एप्स पर प्रतिबंध लगाने के लगभग एक महीने बाद 47 और चीनी एप पर प्रतिबंध लगाए गए हैं, जो पहले प्रतिबंधित एप के क्लोन थे। इसकी जानकारी सूत्रों से मिली। संबंधित मोबाइल एप्लिकेशन की सूची जल्द ही प्रकाशित की जाएगी।

एक आधिकारिक सूत्र ने आईएएनएस को बताया कि प्रतिबंधित किए जाने वाले एप्स पहले से प्रतिबंधित एप्स के क्लोन के रूप में पाए गए हैं। इन नए एप्स पर प्रतिबंध की बात इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय द्वारा 59 प्रतिबंधित एप के आदेशों का सख्ती से पालन करने या उल्लंघन के मामले में गंभीर कार्रवाई करने के लिए आया। मंत्रालय ने संबंधित सभी कंपनियों को पत्र लिखा है और कहा है कि प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से एप उपलब्ध कराना आईटी अधिनियम और अन्य कानूनों का उल्लंघन है।

एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत सरकार 275 चीनी मोबाइल एप की सूची तैयार की है और इनकी जांच की जा रही है। इनमें पबजी गेम, जिली, कैपकट, फेसयू, Meitu, एलबीई टेक, परफेक्ट कॉर्प, सीना कॉर्प, नेटीज गेम्स, अलीएक्सप्रेस, रेसो और यूलाइक जैसे एप शामिल हैं।

लद्दाख की गलवान घाटी में चीन की सेना के साथ हुई हिंसक झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे। इसके बाद से ही चीन और उसके प्रोडक्ट समेत सभी एप्स को लेकर भारत के लोगों में गुस्सा था, जिसके बाद 29 जून को सरकार ने यूसी ब्राउजर, शेयर इट, हैलो, लाइक, कैम स्कैनर, शीन क्वाई आदि सहित 59 चीनी एप बैन किए थे। इसमें सबसे प्रमुख नाम टिकटॉक का था। मंत्रालय के अनुसार, इस कदम से करोड़ों भारतीय मोबाइल यूजर्स के गोपनीयता की रक्षा होगी।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

लोकप्रिय
next