अंतरराष्ट्रीय शूटर वर्तिका ने गृह मंत्री को खून से लिखा खत, कहा- निर्भया के दोषियों को मैं दूंगी फांसी, दें मौका

तिहाड़ जेल में निर्भया के दोषियों को फांसी दिए जाने की तैयारी चल है। खबरों के मुताबिक, दिल्ली में जहां तिहाड़ जेल नंबर-3 में मौजूद फांसी-घर की साफ-सफाई के बाद उसकी सुरक्षा मजबूत कर दी गई है। जल्द ही फांसी दी जा सकती है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

निर्भया गैंगरेप के दोषियों को पूरे देश में फांसी दिए जाने की मांग तेज होने लगी है। इस संबंध में अंतरराष्ट्रीय शूटर वर्तिका सिंह ने का बड़ा बयान आया है। शूटर वर्तिका सिंह ने यह मांग की है कि निर्भया के चारों दोषियों को एक महिला द्वारा फांसी दी जानी चाहिए। उन्होंने खून से गृह मंत्री अमित शाह को एक पत्र लिखा है। पत्र में उन्होंने यह मांग की कि निर्भया के दोषियों को मैं फांसी देना चाहती हूं। उन्होंने लिखा है, “मेरे द्वारा निर्भया के दोषियों को फांसी पर लटकाने से पूरे देश में एक संदेश जाएगा कि एक महिला भी फांसी दे सकती है। उन्होंने कहा कि मैं चाहती हूं कि महिला कलाकार और सांसद मेरा समर्थन करें। मुझे उम्मीद है कि इससे समाज में बदलाव आएगा।”

उधर, खबर है कि तिहाड़ जेल में निर्भया के दोषियों को फांसी दिए जाने की तैयारी चल है। खबरों के मुताबिक, दिल्ली में जहां तिहाड़ जेल नंबर-3 में मौजूद फांसी-घर की साफ-सफाई के बाद उसकी सुरक्षा मजबूत कर दी गई है, वहीं दूसरी ओर निर्भया के मुजरिमों को फांसी चढ़ाने वाले संभावित जल्लादों में सबसे आगे चल रहे उत्तर प्रदेश के मेरठ शहर निवासी पुश्तैनी जल्लाद पवन कुमार को जेल अफसरों ने तमाम हिदायतें देनी शुरू कर दी हैं।

जल्लाद पवन ने शनिवार को कहा, “अब मैं मोबाइल पर या फिर मीडिया से तब तक ज्यादा बात नहीं करूंगा, जब तक निर्भया हत्याकांड के चारों दोषियों की मौत की सजा पर कोई अंतिम फैसला नहीं आ जाता।”


जल्लाद पवन ने कहा, “दरअसल मैं अब तक मीडिया से इस मुद्दे पर खुलकर बात कर रहा था। मेरी भी दिली ख्वाहिश है कि मैं ही निर्भया के हत्यारों को फांसी के फंदे पर झुलाने पहुंचूं। मामला बेहद पेंचीदा और संवेदनशील है। जब से तिहाड़ जेल प्रशासन ने बेहद गोपनीय तरीके से उत्तर प्रदेश जेल प्रशासन से जल्लाद को लेकर बातचीत शुरू की है, तब से मुझ पर काफी कुछ पाबंदियां लगा दी गई हैं।”

यह पाबंदियां किसने लगाई हैं, इस सवला के जवाब में पवन ने कहा, “मेरठ जेल के अफसरों ने सलाह दी है कि मैं अब कुछ दिनों तक किसी से ज्यादा बातचीत न करूं। साथ ही भीड़-भाड़ से दूर रहूं। शहर के बाहर भी कहीं न आऊं-जाऊं। अपनी सेहत का ख्याल रखूं।”

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;