यह क्रूरता के अद्भुत साधारणीकरण का समय हैः प्रो पुरुषोत्तम अग्रवाल

दिल्ली विश्वविद्यालय के हिन्दू कालेज में दीपक सिन्हा स्मृति व्याख्यान में प्रसिद्ध आलोचक प्रो पुरुषोत्तम अग्रवाल ने वर्तमान समय को आहत भावनाओं का समय बताते हुए कहा कि यह ऐसा समय है जब दिल पत्थर का हो गया है और भावनाएं अद्भुत कोमल हो गई हैं।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

दिल्ली विश्वविद्यालय के हिन्दू कालेज में दीपक सिन्हा की स्मृति में 'हमारे समय में कबीर' विषय पर आयोजित एक व्याख्यान में प्रसिद्ध आलोचक और भक्ति साहित्य के विद्वान प्रो पुरुषोत्तम अग्रवाल ने कहा कि यह सूचना का युग है लेकिन सूचना का विस्फोट ज्ञान का प्रसार है या नहीं इसमें संदेह है। उन्होंने कहा कि हमारे समय में तर्क और विवेक का संकुचन हुआ है। सवाल पूछने में संकोच का होना इस संकुचन का लक्षण है। तर्क और विवेक के घटने से इंसानियत में भी कमी आई है। पुरुषोत्तम अग्रवाल ने कहा कि ऐसे समय में कबीर को पढ़ना उस मर्म को जानना है जिसे हम भूलते जा रहे हैं।

कबीर के जीवन को याद करते हुए पुरुषोत्तम अग्रवाल ने कहा, “विवेक के प्रत्यावर्तन के इस समय में कबीर को याद करना आवश्यक है क्योंकि कबीर केवल अपने समय के पांखण्डियों-सत्ताधारियों की खिल्ली नहीं उड़ाते थे, बल्कि उनकी कविताएं किसी भी समय के पाखंड और सत्ता की निरंकुशता के खिलाफ हैं।” उन्होंने पोस्ट ट्रुथ के मुहावरे को वास्तविक बताते हुए कहा कि यह ऐसा समय है जब दिल पत्थर का हो गया है और भावनाएं अद्भुत कोमल हो गई हैं। उन्होंने इसे आहत भावनाओं का समय बताते हुए कहा कि कबीर को धर्म के प्रचलित अर्थ की चिंता नहीं थी और यही नहीं उनकी भक्ति भी परंपरा से चली आ रही भक्ति से भिन्न है। उन्होंने कहा कि वास्तविक भक्ति विवेक के समर्पण में नहीं है। उन्होंने कबीर को मूलत: तर्क और विवेक की संवेदना का कवि बताते हुए कहा कि कबीर की आलोचना का आधार अनुभव सिद्ध ज्ञान है जो उपलब्ध ज्ञान से असहमति दर्शाते हुए आई है।

कबीर के समय की चर्चा करते हुए पुरुषोत्तम अग्रवाल ने उसे मध्यकाल मानने से इंकार करते हुए कहा कि उस समय भारत में व्यक्ति सत्ता का सम्मान होने लगा था वहीं हमारे समय में प्रबोधन के प्रधान मूल्यों का तेजी से क्षरण होना चिंता का विषय है। हमारे समय की व्यक्ति सत्ता को उन्होंने मनुष्य विरोधी ठहराते हुए कहा कि जब हमें दूसरे मनुष्य की जरूरत ही नहीं है तो दूसरे मनुष्य का दर्द भी हमारे पास नहीं पहुंच सकता। उन्होंने इसे ही विवेक के लौटने और भावनाओं के हावी होने का समय बताया।

व्याख्यान के बाद सवाल-जवाब सत्र में विद्यार्थियों के एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि पंजाब या दुनिया में कहीं भी ईश निंदा जैसे कानूनों का विरोध होना चाहिए क्योंकि ईश्वर भक्ति के सिद्धांतों के आधार पर ही यह कानून उचित नहीं है। देशप्रेम और राष्ट्रविरोधी नारों के संबंध में पूछे गए एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि देश के कानून में हम सबको भरोसा रखना चाहिए, जिसमें ऐसे किसी भी अपराध के लिए सजा के प्रावधान हैं। उन्होंने कहा कि देश प्रेम बहुत बड़ी और गहरी भावना है जिसे हल्के नारों और खेलों में हार-जीत से जोड़ देना नासमझी है।

व्याख्यान के आयोजन के साथ ही प्रो पुरुषोत्तम अग्रवाल ने महाविद्यालय के भरत राम सेंटर में राजकमल प्रकाशन समूह द्वारा लगाई गई एक पुस्तक प्रदर्शनी का भी उद्घाटन किया। यह प्रदर्शनी 28 सितंबर तक चलेगी। प्रदर्शनी के संयोजक आमोद महेश्वरी ने बताया कि लगभग एक हजार पुस्तकों की इस प्रदर्शनी में साहित्य, भाषा और विद्यार्थियों के लिए उपयोगी विषयों की मानक किताबें प्रदर्शित की जा रही हैं।

इससे पहले विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ रामेश्वर राय ने दीपक सिन्हा से जुडी यादों को साझा किया और एक अध्यापक और मनुष्य के रूप में दीपक सिन्हा की असाधारणता की चर्चा की। डॉ बिमलेन्दु तीर्थंकर ने एक पौधा भेंटकर प्रो अग्रवाल का स्वागत किया। व्याख्यान में विभाग की प्रभारी डॉ रचना सिंह और अध्यापक डॉ अभय रंजन, डॉ हरींद्र कुमार सहित बड़ी संख्या में विद्यार्थी तथा शोधार्थी उपस्थित थे। कार्यक्रम के अंत में विभाग के विद्यार्थी सौरभ सिंह ने सभी का आभार व्यक्त किया।

लोकप्रिय
next